अजय कुमार लल्लू की अध्यक्षता में किसानों के समर्थन में उतरी कांग्रेस पार्टी, लखनऊ में किया राजभवन का घेराव

 
लखनऊ। अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के आवाहन पर आज किसान अधिकार दिवस के रूप में उत्तर प्रदेश में तीन काले कृषि कानूनों के खिलाफ पिछले 50 दिनों से दिल्ली बार्डर पर भीषण ठण्ड और बारिश में अपनी मांगों के समर्थन में आन्दोलनरत अन्नदाता किसानों के समर्थन में उ0प्र0 कांग्रेस कमेटी द्वारा राजधानी लखनऊ में राजभवन घेराव का कार्यक्रम आयोजित कर संघर्षरत किसानों की आवाज को बुलन्द किया गया।
 
योगी सरकार की तानाशाही और दमनकारी रवैये के चलते सरकार के इशारे पर भारी पुलिस बल की मौजूदगी में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू को उनके आवास से निकलते ही कायरतापूर्ण तरीके से गिरफ्तार कर लिया गया। उनके साथ कांग्रेस विधान परिषद दल के नेता दीपक सिंह, पूर्व मंत्री आर0के0 चौधरी सहित सैंकड़ों कांग्रेसजनों को भी पुलिस द्वारा गिरफ्तार कर इको गार्डेन भेज दिया गया। कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता डा0 उमाशंकर पाण्डेय ने बताया कि पुलिस द्वारा बलपूर्वक गिरफ्तार किये जाने पर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने कहा कि मौजूदा योगी सरकार निरंकुशता की सारी हदें पार कर चुकी है और लोकतंत्र को तार-तार करने में लगी है।
 

किसानों की मांगों को मानने के बजाय उनके हक में आवाज उठा रहे कांग्रेसजनों को गिरफ्तार करके उनके संवैधानिक अधिकारों को कुचलने का काम कर रही है। आज न सिर्फ लोकतंत्र को कुचला जा रहा है अपितु पूरे संवैधानिक प्रक्रियाओं केा बाधित करने का काम भाजपा सरकार कर रही है। आज एक चुनी हुई लोकतांत्रिक सरकार के समक्ष 50 दिनों से धरना दे रहे किसानों की आवाज को दरकिनार करके अपने चहेते पूंजीपतियों को खुश करने का काम मोदी सरकार कर रही है। तीनों काले कृषि कानून न सिर्फ किसान विरोधी हैं बल्कि किसानों और कृषि को खत्म करने के लिए है। यह कानून किसानों का जो कुछ भी है उसे अपने पूंजीपति चंद मित्रों को दिलवाने के हक में हैं। 
 
लल्लू ने आगे कहा कि एक तरफ भारतीय जनता पार्टी देश भर में बड़ी-बड़ी रैलियां और सभाएं आयोजित कर रही है, योगी आदित्यनाथ गोरखपुर महोत्सव का आयोजन कर रहे हैं। लेकिन खेती, किसानी और अन्नदाता के हक में जब कांग्रेस पार्टी आवाज बुलन्द करती है तो पुलिस के बल पर उनको गिरफ्तार करके न सिर्फ कांग्रेस बल्कि देश के मेहनतकश किसानों की आवाज दबाने का काम भारतीय जनता पार्टी की सरकार कर रही है। पूरी योगी सरकार सिर्फ कागजों पर किसानों के हक की बात करती है। आज न तो किसानों की आय दुगुनी हुई है और न ही उन्हें उनकी उपज का ड्यौढ़ा दाम मिल रहा है बल्कि किसानों की मंडियां और एमएसपी को एक षडयन्त्र के तहत खत्म करके पूरी खेती किसानी को बर्बाद करने का काम योगी-मोदी कर रही है। 
 
प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि किसान हितैषी योगी सरकार का आलम यह है कि यूपी में सरकारी गड़बड़ी की वजह से साढ़े सात लाख से अधिक किसानों को सम्मान निधि नहीं मिली है लेकिन सरकार ने किसान आन्दोलन को रोकने के लिए नोडल अधिकारी बनाए हैं। यह भाजपा सरकारों की किसान हितैषी होने के दावे की पोल खोलती है और साबित करती है कि भाजपा किसानों की कितनी हितैषी है।

Popular posts from this blog

अनेक बातें जो हम समझ नहीं पाते

पीसीएस मणि मंजरी राय आत्महत्या मामले में नया खुलासा, ड्राइवर गिरफ्तार

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न