उत्तर प्रदेश में 'एक देश एक राशन कार्ड' योजना के कार्यान्वयन की समीक्षा की गई


भारत सरकार के खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण विभाग के सचिव सुधांशु पांडेय और खाद्य निगम के अध्यक्ष व प्रबंध निदेशक संजीव कुमार ने 29 जनवरी 2021 को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकात की और विभिन्न मुद्दों पर चर्चा की। पांडेय ने बंद पड़ी चीनी मिलों को पुनर्जीवित करने और बीमार पड़ी पुरानी चावल मिलों का आधुनिकीकरण करने जैसे सरकार द्वारा उठाए गए विभिन्न कदमों के बारे में मुख्यमंत्री को अवगत कराया। उन्होंने उत्तर प्रदेश में खाद्यान्नों की खरीद तथा भंडारण से जुड़े महत्वपूर्ण मुद्दों पर भी आदित्यनाथ के साथ बातचीत की।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री ने भारतीय खाद्य निगम और राज्य सरकार के अधिकारियों द्वारा किए गए प्रयासों की सराहना की, जिसके कारण खरीफ़ विपणन सत्र 2020-21 के दौरान रिकॉर्ड धान की खरीद और कोविड -19 के समय में भी गेहूं की बंपर खरीद हुई। किसानों से बेहतर तरीके से खरीद सुनिश्चित करने के लिए उत्तर प्रदेश में भंडारण क्षमता को बढ़ाने का अनुरोध किया गया था। मुख्यमंत्री ने राज्य के अधिकारियों को राज्य सरकार की मंडियों में पर्याप्त जगह की व्यवस्था करने और जल्द से जल्द मॉडल भंडारण सुविधाओं के साथ 50 लाख मीट्रिक टन भंडारण की जगह की उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए अन्य बुनियादी ढांचा तैयार करने का निर्देश दिया।

खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण विभाग (डीएफपीडी) के सचिव ने लखनऊ में भारतीय खाद्य निगम के क्षेत्रीय कार्यालय का भी दौरा किया, जहां उन्होंने राज्य सरकार के अधिकारियों के साथ विचार-विमर्श किया। इस बैठक में भारतीय खाद्य निगम के अधिकारियों, ख़रीद एजेंसियों, केंद्रीय भंडारण निगम और उत्तर प्रदेश राज्य भंडारण निगम के अधिकारियों ने भी हिस्सा लिया। बैठक में खाद्यान्नों की खरीद और वितरण से संबंधित विभिन्न मुद्दों पर चर्चा की गई। बैठक में भारतीय खाद्य निगम के अध्यक्ष व प्रबंध निदेशक संजीव कुमार और उत्तर प्रदेश सरकार में (खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति) की प्रमुख सचिव वीणा कुमारी ने अन्य अधिकारियों के साथ भाग लिया।

डीएफपीडी सचिव ने उत्तर प्रदेश सरकार और खाद्य निगम के प्रयासों की सराहना की। सरकार और निगम की लगातार कोशिशों से ही राज्य में योजनाओं का प्रभावी संचालन संचालन संभव हो सका, जिससे कोविड -19 महामारी के दौरान पात्र लाभार्थियों को खाद्यान्न का निर्बाध वितरण किया गया। खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण विभाग के सचिव ने चालू खरीफ विपणन सत्र 2020-21 के दौरान धान और चावल की खरीद की समीक्षा की। पांडेय ने राज्य में 12 लाख से अधिक किसानों से 63 लाख मीट्रिक टन धान की रिकॉर्ड खरीद की तारीफ की। सचिव ने चावल खरीद तथा बिलिंग प्रणाली के डिजिटलीकरण में राज्य सरकार और एफसीआई के प्रयासों की सराहना की, जिसके कारण बचत बढ़ी तथा सभी खरीद एजेंसियों के लिए तेजी से नकदी का प्रवाह हुआ।

डीएफपीडी सचिव ने राज्य सरकार से मंडियों में स्थान उपलब्ध कराने का अनुरोध किया ताकि अनाज के भंडारण के लिए आधुनिक एसआईएलओ बनाने के लिए एक योजना लाई जा सके। पांडेय ने उत्तर प्रदेश में 'एक देश एक राशन कार्ड' योजना के कार्यान्वयन की भी समीक्षा की। जिसके तहत उचित मूल्य की दुकानों पर ईपीओएस उपकरणों की स्थापना द्वारा आईटी-संचालित प्रणालियों के कार्यान्वयन के माध्यम से राशन कार्डों की देशव्यापी पोर्टेबिलिटी के ज़रिये अत्यधिक रियायती खाद्यान्न का वितरण किया जाता है। उन्होंने एनएफएसए के तहत पात्र लाभार्थियों की आधार फीडिंग पर राज्य सरकार द्वारा की गई प्रगति पर प्रसन्नता व्यक्त की।

Popular posts from this blog

अनेक बातें जो हम समझ नहीं पाते

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

पीसीएस मणि मंजरी राय आत्महत्या मामले में नया खुलासा, ड्राइवर गिरफ्तार