पॉवर फाइनेंस कॉरपोरेशन ने राजभाषा विभाग, गृह मंत्रालय के सहयोग से तकनीकी कार्यशाला का किया गया आयोजन

पावर फाइनेंस कॉर्पोरेशन, ऊर्जा क्षेत्र में भारत के प्रमुख गैर बैंकिग वित्तीय संस्थानों-एनबीएफसी में से एक और ऊर्जा मंत्रालय के तहत एक सार्वजनिक क्षेत्र की कम्पनी-पीएसयू, पीएफसी के मुख्यालय ऊर्जानिधि में कल कंठस्थ (स्मृति पर आधारित अनुवाद सॉफ्टवेयर) और हिंदी -उपकरण पर एक तकनीकी कार्यशाला का आयोजन किया। कार्यशाला का आयोजन भारत सरकार के गृह मंत्रालय के राजभाषा विभाग के सहयोग से किया गया था।

कार्यशाला का उद्घाटन डॉ. सुमीत जेरथ, आईएएस, सचिव (राजभाषा विभाग), डॉ. मीनाक्षी जॉली, संयुक्त सचिव (राजभाषा विभाग), बाबूलाल मीणा, निदेशक (तकनीकी), राजेश श्रीवास्तव, उप निदेशक (राजभाषा विभाग और तकनीकी) ने रविंद्र सिंह ढिल्लों, मुख्य प्रबंध निदेशक-सीएमडी, पीएफसी की उपस्थिति में किया। कार्यशाला के दौरान पीएफसी के वरिष्ठ सलाहकार आर. मुरहरी और केवाल कृष्ण ने कंठस्थ और हिंदी -उपकरण के महत्व को समझाया। भारत सरकार के विभिन्न विभागों, बैंकों और अर्धसैनिक बलों के लगभग 50 कर्मियों को तकनीकी कार्यशाला से लाभ हुआ।

Popular posts from this blog

अनेक बातें जो हम समझ नहीं पाते

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

पीसीएस मणि मंजरी राय आत्महत्या मामले में नया खुलासा, ड्राइवर गिरफ्तार