साक्षी महाराज के बयानों की कांग्रेस ने की निंदा

लखनऊ। भारतीय जनता पार्टी के सांसद साक्षी महाराज के बयान पर उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता बृजेन्द्र कुमार सिंह ने कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि वह सत्ता के अहंकार में हमारे अन्नदाता किसानों का अपमान कर रहे हैं।
 
कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा कि साक्षी महाराज का यह कहना कि वही किसान आन्दोलन कर रहे हैं जिन्हें राम मन्दिर बनने से खुशी नहीं हुई है या सीएए/एनआरसी के समर्थक हैं, वही लोग धरने पर बैठे हैं। यह कहना अन्नदाता किसानों का अपमान करना है। भगवान श्रीराम के मंदिर बनने से हर किसान को तथा हर भारतवासी को गर्व और खुशी है परन्तु इसका मतलब यह नहीं होता कि किसान अपनी उपज का उचित मूल्य सुनिश्चित करवाने, अपनी खेती को बचाने तथा आवश्यक वस्तु अधिनियम के खत्म होने की वजह से व्यापारियों को जमाखोरी करने की असीमित छूट देने का समर्थन करें।
 
मोदी सरकार द्वारा बनाये गये तीनों कृषि कानून किसानों के हितों के खिलाफ हैं तथा अपने चहेते चंद पूंजीपतियों को लाभ पहुंचाने के लिए ही बनाये गये हैं। साक्षी महाराज द्वारा सीएए/एनआरसी का समर्थन करने की बात किसानों से जोड़ना विषय को भटकाने की एक सुनियोजित साजिश है, जिसकी कांग्रेस कड़े शब्दों में निन्दा करती है। साक्षी महाराज अपने उलूल-जुलूल और समाज विरोधी बयानों के लिए कुख्यात हैं और भारतीय जनता पार्टी ऐसे तत्वों को अपनी पार्टी में पाल कर रखती है जो समय-समय पर हमारे अन्नदाता किसानों, जवानों, राष्ट्रपिता महात्मा गांधी, स्वतंत्रता आन्दोलन के अमर शहीदों और महापुरूषों के खिलाफ अनर्गल प्रलाप करते रहें क्योंकि भाजपा की विचारधारा का स्वतंत्रता आन्दोलन और राष्ट्र निर्माण में कोई योगदान नहीं रहा है।
 
सिंह ने कहा कि कांग्रेस पार्टी भारत के अन्नदाता किसानों के साथ पूरी दृढ़ता के साथ खड़ी है। उनके हर संघर्ष में खड़ी रहेगी जब तक मोदी सरकार द्वारा बनाये गये तीनों काले कृषि कानून वापस नहीं लिया जाता। आज लोहड़ी का पवित्र पर्व है जिसका सीधा जुड़ाव अन्नदाता किसान और उसकी फसल से होता है। आज लाखों किसान अपने घरों से दूर कड़कड़ाती ठण्ड में अपनी फसल और अपनी जोत को बचाने के लिए, अपने हकों के लिए बैठे हुए हैं। यह क्रूर सरकार अन्नदाताओं को उनको हक देने की बजाय उनके जले पर नमक छिड़कने का काम कर रही है।

Popular posts from this blog

स्वस्थ जीवन मंत्र : चैते गुड़ बैसाखे तेल, जेठ में पंथ आषाढ़ में बेल

या देवी सर्वभू‍तेषु माँ गौरी रूपेण संस्थिता।  नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।।

!!कर्षति आकर्षति इति कृष्णः!! कृष्ण को समझना है तो जरूर पढ़ें