पश्चाताप के बिना सच्ची साधना का आरम्भ नहीं होता


🌸 श्री गुरूदेव महाराज जी के पंचामृत 🌸

१. मनुष्य का चेहरा ही उसके हृदय का दर्पण है। जैसे हृदय में भाव होंगे वैसी मुखाकृति दिखाई पड़ेगी।

२. यदि इष्ट को भूले हो तो ब्रम्हा की आयु भी भोगना व्यर्थ है।

३. बिना पश्चाताप के सच्ची साधना का आरम्भ नहीं होता।

४. मन में शंका और चिंता का प्रवेश न हो वही सच्चा एकान्त है।

५. लोक कल्याण को अपने कल्याण से भी अधिक मानना सच्ची साधुता और उदारता है।

जय जय महाराज जी

Popular posts from this blog

अनेक बातें जो हम समझ नहीं पाते

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

यूपी में पंचायत चुनाव को लेकर राज्य निर्वाचन आयोग ने शुरू की तैयारियां