कोरोना से मुक्ति, राष्ट्र कल्याण और आध्यात्मिक उन्नति के लिए किया गया अनुष्ठान

लखनऊ। अयोध्या से आए मंहत गणों का अभिनंदन सोमवार को उत्तर प्रदेश वैश्य व्यापारी महासभा ने किया। निराला नगर के शिवमंदिर परिसर में हुए इस महा संत समागम में महासभा का प्रदेश अध्यक्ष-युवा अभिषेक अग्रवाल ने आदिगंगा मां गोमती का मंगल कलश, मकर संक्रान्ति पर संगम स्थल में प्रवाहित करने के लिए महंत गणों को सौंपा। इस अनुष्ठान का उद्देश्य कोरोना से मुक्ति, राष्ट्र कल्याण और आध्यात्मिक उन्नति है।
 
इस अवसर पर प्रतिष्ठित चिकित्सक, हिन्दू संगठन और सामाजिक कार्यकर्ता मौजूद रहे। इस संत समागम में अयोध्या बड़ी जगह-बड़ी स्थान के बिंदुगद्याचार्य महंत देवेन्द्र प्रसाद आचार्य, विश्व प्रवासी सामाजिक एवं सांस्कृतिक संघ और विश्व प्रवासी धर्म परिषद के अंतरराष्ट्रीय अध्यक्ष रसिक पीठाधीश्वर मंत जन्मेजय शरण महाराज, प्रमुख अयोध्या हनुमानगढ़ी के प्रमुख नागा हरिदास महाराज, रायबरेली के महाराजगंज स्थित सिंह पीठ, स्वामी हरिदास आश्रम के महंत लक्ष्मण दास महाराज, अयोध्या रामघाट, माल की छावनी के बड़े भक्त महंत अवधेश कुमार दास महाराज अयोध्या के रायगंज पत्थर मंदिर के महंत नागा रामलखन महाराज का अलंकरण किया गया।

महंतगणों ने कहा कि संगम स्थल पर 14 जनवरी को मकर संक्रान्ति पर वह गोमती जल को संगम स्थल में प्रवाहित करेंगे और संगम स्थल पर स्नान का क्रम शुरू करेंगे। इसके बाद पौष पूर्णिमा पर 28 जनवरी, 11 फरवरी को मौनी अमावस्या, 16 फरवरी को बसंत पंचमी और 27 फरवरी पर माघ पूर्णिमा पर भी सर्वमंगल के लिए स्नान पूजन अनुष्ठान करेंगे।

Popular posts from this blog

स्वस्थ जीवन मंत्र : चैते गुड़ बैसाखे तेल, जेठ में पंथ आषाढ़ में बेल

या देवी सर्वभू‍तेषु माँ गौरी रूपेण संस्थिता।  नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।।

!!कर्षति आकर्षति इति कृष्णः!! कृष्ण को समझना है तो जरूर पढ़ें