अवध शिल्पग्राम, लखनऊ में आयोजित 24वे "हुनर हाट" का हुआ समापन


लखनऊ। यूपी के अवध शिल्पग्राम में केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय द्वारा 22 जनवरी से 07 फरवरी 2021 तक आयोजित किये गए 24वे "हुनर हाट" में जहाँ एक ओर 29 लाख से ज्यादा लोगों ने आकर हुनर के पुश्तैनी दस्तकारों, शिल्पकारों की हौसलाअफजाई की, वहीँ करोड़ों रूपए की स्वदेशी उत्पादों की खरीददारी कर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के "वोकल फॉर लोकल" “अभियान का अभिमान” बनें।

अवध शिल्पग्राम, लखनऊ में आयोजित 24वे "हुनर हाट" का उद्घाटन मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 23 जनवरी को किया था। "हुनर हाट" के उद्घाटन के अवसर पर उत्तर प्रदेश सरकार के कई वरिष्ठ मंत्री और केंद्र एवं राज्य सरकार के वरिष्ठ अधिकारी भी उपस्थित थे। केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने आज "हुनर हाट", लखनऊ के समापन के अवसर पर अवध शिल्पग्राम में पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि एक ओर "हुनर हाट" में जहाँ देश के हर क्षेत्र के स्वदेशी हस्तनिर्मित दुर्लभ उत्पाद उपलब्ध थे, वहीँ दूसरी और यहाँ आने वाले लोगों ने देश के विभिन्न क्षेत्रों के पारम्परिक लजीज़ पकवानों का भी लुत्फ़ उठाया।

नकवी ने कहा कि लखनऊ के "हुनर हाट" में आंध्र प्रदेश, असम, बिहार, चंडीगढ़, छत्तीसगढ़, दिल्ली, गोवा, गुजरात, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, जम्मू-कश्मीर, झारखण्ड, कर्नाटक, केरल, लद्दाख, मध्य प्रदेश, मणिपुर, मेघालय, नागालैंड, ओड़िशा, पुडुचेरी, पंजाब, राजस्थान, सिक्किम, तमिलनाडु, तेलंगाना, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, पश्चिम बंगाल सहित 31 राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों से लगभग 500 हुनर के उस्ताद शामिल हुए। ये दस्तकार, शिल्पकार अपने साथ अजरख, ऍप्लिक, आर्ट मेटल वेयर, बाघ प्रिंट, बाटिक, बनारसी साड़ी, बंधेज, बस्तर की जड़ी-बूटियां, ब्लैक पॉटरी, ब्लॉक प्रिंट, बेंत-बांस के उत्पाद, चिकनकारी, कॉपर बेल, ड्राई फ्लावर्स, खादी के उत्पाद, कोटा सिल्क, लाख की चूड़ियाँ, लेदर, पश्मीना शाल, रामपुरी वायलिन, लकड़ी-आयरन के खिलौने, कांथा एम्ब्रोइडरी, ब्रास-पीतल के उत्पाद, क्रिस्टल ग्लास, चन्दन की कलाकृतियां, लकड़ी-बेंत के फर्नीचर आदि के स्वदेशी हस्तनिर्मित शानदार उत्पाद प्रदर्शन एवं बिक्री के लिए ले कर आये।

नकवी ने कहा कि लखनऊ का "हुनर हाट" ई प्लेटफार्म http://hunarhaat.org पर भी देश-विदेश के लोगों के लिए उपलब्ध रहा जहाँ लोगों ने सीधे दस्तकारों, शिल्पकारों, कारीगरों के स्वदेशी सामानों को सराहा और ख़रीदा। इसके अलावा अब "हुनर हाट" जेम पोर्टल (गवर्नमेंट इ मार्केटप्लेस) पर भी उपलब्ध है। नकवी ने कहा कि पिछले 6 वर्षों में "हुनर हाट" के माध्यम से 5 लाख से ज्यादा दस्तकारों, शिल्पकारों, कारीगरों और उनसे जुड़े लोगों को रोजगार और रोजगार के अवसर उपलब्ध हुए हैं। "हुनर हाट" में प्रतिदिन सांयकाल देश के जाने-माने कलाकारों द्वारा "आत्मनिर्भर भारत" थीम पर पेश किये गए। गीत-संगीत के कार्यक्रम भी दर्शकों के आकर्षण का केंद्र रहे।

प्रसिद्द कलाकारों जैसे कैलाश खेर (30 जनवरी), विनोद राठौर (28 जनवरी), सुदेश भोंसले (6 फरवरी), मोहित खन्ना (22 जनवरी) भुप्पी (23 जनवरी) रेखा राज (24 जनवरी) रानी इन्द्राणी (25 जनवरी) हमसर हयात ग्रुप (26 जनवरी), अमनदीप सिंह (27 जनवरी), प्रेम भाटिया (29 जनवरी), शिबानी कश्यप (31 जनवरी), शर्मा सिस्टर्स (1 फरवरी), आलमगीर खान (2 फरवरी), मुकेश पांचोली (3 फरवरी) और एहसान कुरैशी (4 फरवरी) एवं अन्य कलाकारों ने अपने कार्यक्रमों से लोगों को मंत्रमुग्ध किया। 25वे "हुनर हाट" का आयोजन महाराजा कॉलेज ग्राउंड, चाम्राज्यपुरम, मैसूरु (कर्नाटक) में 06 से 14 फरवरी 2021 तक किया जा रहा है। आने वाले दिनों में "हुनर हाट" का आयोजन नई दिल्ली (20 फरवरी से 1 मार्च 2021), कोटा (28 फरवरी से 7 मार्च 2021), जयपुर, चंडीगढ़, इंदौर, मुंबई, हैदराबाद, रांची, सूरत/अहमदाबाद, कोच्चि, पुडुचेरी आदि स्थानों पर होगा।

Popular posts from this blog

अनेक बातें जो हम समझ नहीं पाते

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

यूपी में पंचायत चुनाव को लेकर राज्य निर्वाचन आयोग ने शुरू की तैयारियां