डॉ. जाकिर हुसैन को उनकी जयंती पर राष्‍ट्रपति ने श्रद्धांजलि अर्पित की

 
राष्‍ट्रपति रामनाथ कोविन्‍द ने आज राष्‍ट्रपति भवन में देश के पूर्व राष्‍ट्रपति डॉ. जाकिर हुसैन की जयंती पर उन्‍हें श्रद्धांजलि अर्पित की। राष्‍ट्रपति के साथ-साथ राष्‍ट्रपति भवन के अधिकारियों ने भी डॉ. जाकिर हुसैन की प्रतिमा पर पुष्‍प अर्पित कर उन्‍हें अपनी भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की।

डाक्टर ज़ाकिर हुसैन स्वतंत्रता सेनानी एवं भारत के तीसरे राष्ट्रपति तथा प्रथम मुस्लिम राष्ट्रपति थे, जिनका कार्यकाल 13 मई 1967 से 3 मई 1969 तक था। केवल 23 वर्ष की अवस्था में वे 'जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय' की स्थापना दल के सदस्य बने। जाकिर हुसैन भारत के तीसरे राष्ट्रपति तथा प्रमुख शिक्षाविद थे। वे अर्थशास्त्र में पीएच. डी की डिग्री के लिए जर्मनी के बर्लिन विश्वविद्यालय गए और लौट कर जामिया के उप कुलपति के पद पर भी आसीन हुए।

1920 में उन्होंने जामिया मिलिया इस्लामिया की स्थापना में योग दिया तथा इसके उपकुलपति बने। 1962 ई. में वे भारत के उपराष्ट्रपति बने। उन्हें वर्ष 1963 मे भारत रत्न से सम्मानित किया गया। 1969 में असमय देहावसान के कारण वे अपना राष्ट्रपति कार्यकाल पूरा नहीं कर सके। डॉ॰ जाकिर हुसैन भारत में आधुनिक शिक्षा के सबसे बड़े समर्थकों में से एक थे। डॉ॰ जाकिर हुसैन ने बिहार के राज्यपाल के रूप में भी सेवा की और इसके बाद वे देश के उपराष्ट्रपति रहे तथा बाद में वे भारत के तीसरे एवं प्रथम मुस्लिम राष्ट्रपति बने। डॉ ज़ाकिर हुसैन एक ऐसे मुस्लिम स्वतंत्रता सेनानी हैं जो राष्ट्रपति पद तक पहुंचने में सफल रहे।

Popular posts from this blog

अनेक बातें जो हम समझ नहीं पाते

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

यूपी में पंचायत चुनाव को लेकर राज्य निर्वाचन आयोग ने शुरू की तैयारियां