बुन्देलखण्ड के बारे में गलत तथ्य प्रस्तुत कर मुख्यमंत्री ने अन्नदाताओं का किया अपमान- अजय कुमार लल्लू

लखनऊ। उ0प्र0 कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने कहा है कि आज मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने महामहिम राज्यपाल के अभिभाषण पर चर्चा का जवाब देते हुए जिन तथ्यों का सहारा लिया वह सब झूठ का पुलिन्दा और सदन को गुमराह करने वाला तथा सत्य से परे है।
 
उन्होने कहा कि जिस प्रकार पीपीई किट घोटाले और कोरोना काल के दौरान प्रभावी मजदूरों के साथ उ0प्र0 में हुए दुर्व्यवहार और पैदल सैंकड़ों किलोमीटर चलने की घटना जिसमें तमाम लोगों की जानें गयीं और मानवता शर्मशार हुई थी, जो प्रदेश सरकार की असंवेदनशीलता की पराकाष्ठा रही। आज जिस बेशर्मी के साथ झूठे तथ्यों के साथ आत्मप्रसंशात्मक जवाब दिया है उससे हमारे उन प्रवासी मजदूरों और उस पीड़ा से गुजरे लाखों की संख्या में प्रदेशवासियों का अपमान किया है और उनकी पीड़ा का मजाक उड़ाया है।
 
अजय कुमार लल्लू ने कहा कि उ0प्र0 के मुख्यमंत्री द्वारा राज्यपाल अभिभाषण के जवाब में गेहूं, धान, मक्का की खरीद के बारे में सदन में जो तथ्य बढ़ाचढ़ाकर प्रस्तुत किये गये हैं वह सत्य से बिल्कुल परे हैं और हमारे प्रदेश के अन्नदाता किसानों का अपमान किया है। सरकार ने जिन आंकड़ों को पेश किया है वह भ्रामक और पूरी तरह झूठे हैं क्योंकि किसानों को औने-पौने दामों पर अपनी उपज को बेंचने के लिए विवश होना पड़ा है इसका उदाहरण कांग्रेस पार्टी को और आम जनता को किसान पंचायतों में देखने को मिल रहा है कि किसान किस नाराजगी के साथ तथ्यों के साथ सरकार की विफलताओं का विवरण प्रस्तुत कर रहे हैं। 
 
प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि बुन्देलखण्ड में मेरे द्वारा सिंचाई की समस्या और पेयजल की समस्या जिसके चलते बुन्देलखण्ड की जनता सबसे अधिक परेशान हैं उसके निस्तारण हेतु समयबद्ध सीमा बताये जाने की मांग की गयी और आत्महत्या पर सवाल उठाया गया। किसानों द्वारा सरकार की किसान विरोधी नीतियों, कर्ज के बोझ से दबे होने के चलते की गयी आत्महत्या को जिस बेशर्मी के साथ सरकार ने नकारा वह हमारे अन्नदाता और बुन्देलखण्ड की जनता का अपमान है। कांग्रेस पार्टी ने पूरे तथ्यों के साथ सदन में पूरे प्रकरण को रखा था आगे भी अपने प्रदेश के अन्नदाता किसानों की आवाज को सड़क से लेकर सदन तक इसी प्रकार दृढ़ता के साथ उठाती रहेगी। सरकार की बेशर्मी से हम डरने वाले नहीं हैं। 
 
प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि राज्यपाल का अभिभाषण जो सरकार का दस्तावेज होता है वह पूरी तरीके से दिशाहीन और झूठ का पुलिन्दा था। इसमें 65 प्रतिशत वह लोग जो एक वर्ष से अपने बच्चों की फीस नहीं जमा कर पा रहे हैं। 3 लाख 60 हजार वित्तविहीन शिक्षक जो वर्षों से वेतन नहीं पा रहे हैं या आधे में गुजारा कर रहे हैं। इसी के साथ वह लोग जिनकी नौकरियां चली गयी हैं, रोजगार-धन्धे चैपट हो गये हैं। भीषण मंहगाई, डीजल, पेट्रोल के बढ़ते दामों और रसोईगैस न खरीद पाने मजबूर जनता के लिए इस अभिभाषण में कोई भी सकारात्मक संदेश नहीं दिखाई पड़ा। ऐसे में कांग्रेस पार्टी ने निर्णय लिया है कि वह योगी सरकार के झूठ और वादाखिलाफी का पर्दाफाश करने के लिए उत्तर प्रदेश की जनता के हित में हर जन मुद्दे को लेकर सड़क से सदन तक संघर्ष करती रहेगी।

Popular posts from this blog

अनेक बातें जो हम समझ नहीं पाते

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

पीसीएस मणि मंजरी राय आत्महत्या मामले में नया खुलासा, ड्राइवर गिरफ्तार