कानून व्यवस्था और महिला हिंसा को रोकने में नाकाम योगी सरकार- वीरेंद्र चौधरी

लखनऊ। उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने प्रदेश की योगी सरकार को कांग्रेस नेताओं सहित सरकार के खिलाफ मुखर होकर बोलने वाले लोगो पर फर्जी मुकदमे, एफआईआर सहित अन्य उत्पीड़नात्मक कार्रवाइयों के खिलाफ सरकार को कठघरे में खड़ा करते हुए आरोप लगाया कि चौतरफा फेल योगी सरकार जाते वर्ष अपने खिलाफ आवाजों को सत्ता का दुरुपयोग कर डरना धमकाना चाहती हैं।
 
योगी सरकार सत्ता के दंभ में समस्त लोकतांत्रिक व्यवस्थाओं और मर्यादाओं का अपमान कर रही है और उसे छिन्न भिन्न करना चाहती है। योगी सरकार के यह कृत्य उनकी बौखलाहट का नतीजा है। उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के उपाध्यक्ष और प्रभारी संगठन वीरेंद्र चौधरी ने आज एक प्रेस कांफ्रेंस के माध्यम से प्रदेश की योगी सरकार पर आरोप लगाया कि पूरे प्रदेश में कानून व्यवस्था गर्त में पहुंच चुकी है। संकल्प पत्र में वर्णित लॉ एंड आर्डर की बात घोषणा पत्र तक सीमित रह गयी है। प्रदेश में अपराधियों का बोलबाला है पर योगी सरकार कानून व्यवस्था को पटरी पर लाने और प्रदेश में बढ़ती महिला और बच्चियों के साथ बढ़ती दरिंदगी और हैवानियत रोकने में नाकाम आज कांग्रेस नेताओं पर फर्जी मुकदमे लाद कर उनको व्यक्तिगत निशाना बनाने पर लगी है।
 
उन्होंने आगे कहा कि आज अपराध और महिलाओं के साथ दरिंदगी उत्तर प्रदेश का दस्तखत बन चुकी है। प्रदेश उपाध्यक्ष ने आगे कहा कि महिलाओं पर होने वाली रेप बलात्कार और दरिंदगी को रोकने को लेकर लाचार योगी सरकार नित्य नए खोखले शब्दो से सजे शब्दो से जनता को भरमा रही है। महिला संवर्धन, मिशन शक्ति सहित महिला सशक्तिकरण का ढोल पीटने वाली योगी सरकार रेप बलात्कार के मामलों में पीड़िता के मामलों को उजागर करने करने वालो पर मुकदमे और एफआईआर लगा रही है और सरकार विरोधी मुखर आवाजों को सत्ता की लाठी के सहारे चुप करना चाहती है। उन्होंने कहा कि सरकार कांग्रेस के संवाद और सरोकार वाले रास्ते से भयभीत हो गयी है। 
 

पूर्व विधायक व कांग्रेस कमेटी के कोषाध्यक्ष सतीश अजमानी ने  प्रेस को संबोधित करते हुए कहा कि आज समूचे विपक्ष सहित कांग्रेस और लोकतंत्र और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता समर्थक आवाजों को सरकारी दमन दहशत और दमन का सामना करना पड़ रहा है। यह सरकारी उत्पीड़न की सबसे ताजा कड़ी है। योगी सरकार शुरू से ही सच का साथ देने वालों को निशाने पर लेता आयी है। साइबर सेल, प्रवर्तन निदेशालय और आयकर पुलिस एफआईआर के सहारे निडर लोगो को डराने-धमकाने का काम आज हो रहा है।

वरिष्ठ नेता सतीश अजमानी ने आगे कहा कि महिला सुरक्षा के सरकारी दावे खोखले है। योगी बहन-बेटियों महिलाओं की सुरक्षा सुनिश्चित नही कर पा रहे है। बहन बेटियों की सुरक्षा को लेकर लगातार गलतबयानी कर रहे है। हाथरस मामले में भी स्वतंत्र जांच कर मामले को आगे लाने वाले के खिलाफ मुकदमे कायम किये गए थे पर योगी सरकार यह जान लें कि पूर्ण बहुमत से पैदा गुरुर हम प्रियंका दीदी-राहुल भैया के जांबाज सिपाहियों के हौंसले तोड़ न पायेगा। योगी सरकार की तानाशाही के खिलाफ हमारी आवाजें खामोश न होंगी। हम कदम कदम पर लड़े है उनसे, हम कदम कदम पर लड़ेंगे उनसे। हार मानना और पीछे हटना हम कांग्रेसजनों ने सीखा नही।

Popular posts from this blog

अनेक बातें जो हम समझ नहीं पाते

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

पीसीएस मणि मंजरी राय आत्महत्या मामले में नया खुलासा, ड्राइवर गिरफ्तार