बर्ड फ्लू पर नियंत्रण


केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्य मंत्री अश्विनी कुमार चौबे ने आज लोक सभा मे कहा कि अभी तक एच5एन1, एच-5एन-8 और एच5 स्ट्रेंस की पहचान की गई है। राष्ट्रीय पशु रोग उच्च सुरक्षा संस्थान (एनआईएचएसएडी), भोपाल देश में मांस उत्पादों में बर्ड फ्लू के संबंध में प्रयोगशाला जांच करता है।

भारतीय खाद्य सुरक्षा और मानक प्राधिकरण (एफएसएसएआई) के पास खाद्य सुरक्षा और मानक अधिनियम, 2006 की धारा 43(1) के तहत190 प्राथमिक खाद्य जांच प्रयोगशालाओं और अधिनियम की धारा 43(2) के तहत 18 रेफरल प्रयोगशालाओं का नेटवर्क है। इनके अलावा एफएसएस अधिनियम, 2006 की धारा 98 के तहत कार्यशील 18 राज्य खाद्य जांच प्रयोगशालाएं हैं। इनमें से ज्यादातर 165 खाद्य प्रयोगशालाएं मांस उत्पादों की जांच करने में सक्षम हैं। 2 रेफरल प्रयोगशालाएं अर्थात नेशनल रिसर्च सेंटर ऑन मीट हैदराबाद तथा सेंट्रल इंस्टीट्यूट ऑफ फिशरीज़ टेक्नोलॉजी, कोच्चि मीट और मतस्य जांच के कार्य के लिए समर्पित हैं।

25 अधिसूचित प्राथमिक खाद्य सुरक्षा जांच प्रयोगशालाओं और कुछ रेफरल प्रयोगशालाओं यानी सीएएलएफ-राष्ट्रीय दुग्ध विकास बोर्ड, गुजरात, सीआईएफटी, कोच्चि, एनआरसी, मीट, हैदराबाद, राष्ट्रीय खाद्य जांच प्रयोगशाला, कोलकाता और एक राष्ट्रीय रेफरेंस प्रयोगशाला यानी एडवर्ड खाद्य अनुसंधान और विश्लेषण केंद्र, कोलकाता में एंटीबायोटिक अवशेषों के जांच की सुविधाएं हैं।

आज की तारीख तक, किसी प्रयोगशाला ने देश में एवियन इनफ्लुएंजा के मानव मामलों की पुष्टि नहीं की है। बर्ड फ्लू/ एवियन इन्फ्लूएंजा से लोगों की सुरक्षा के लिए किसी वैक्सीन को भारत में तैयार अथवा सरकार द्वारा अधिप्रापण नहीं किया गया है। जूनोटिक रोगों रेबीज, जैपनीज एनसिफालाईटिस, क्यासानूर फॉरेस्ट डिजीज के लिए सरकार द्वारा वैक्सीन का व्यापक रूप से उपयोग और अधिप्रापण किया गया।

Popular posts from this blog

अनेक बातें जो हम समझ नहीं पाते

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

यूपी में पंचायत चुनाव को लेकर राज्य निर्वाचन आयोग ने शुरू की तैयारियां