लफ्फाजी का बजट है, सच्चाई का नहीं- संजय सिंह


लखनऊ। योगी सरकार का जो 5.50 लाख करोड़ का बजट आया है वह लफ्फाजी का बजट है, सच्चाई का नहीं। सरकार का जो ट्रैक रिकॉर्ड रहा है उसको देखकर साफ तौर पर यह समझा जा सकता है। इस सरकार ने चार साल में जनता के लिए कोई काम नहीं किया, बल्कि कोरोना के टाइम में 800 का ऑक्सीमीटर 5000 में खरीदा गया और 1600 का थर्मोमीटर 13 हजार रुपयों में खरीदा गया।
 
इसके बाद भी अगर यह सरकार बजट में कोरोना के समय में अनुकरणीय काम करने कि बात करती है तो इसे लफ्फाजी ही कहा जाएगा। इस बजट में लोगों को अच्छी स्वास्थ्य सेवाएं दिलाने, रोजगार देने, बच्चों को अच्छी शिक्षा मुहैया कराने के लिए सरकार की कोई दृष्टि दूर-दूर तक नजर नहीं आ रही है। इस तरह से यह बजट पूरी तरह से निराशा का बजट है और लफ्फाजी का बजट है।

Popular posts from this blog

अनेक बातें जो हम समझ नहीं पाते

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

पीसीएस मणि मंजरी राय आत्महत्या मामले में नया खुलासा, ड्राइवर गिरफ्तार