उ0प्र0 की जनता अपनी सुरक्षा स्वयं करने को मजबूर- पूर्व मुख्यमंत्री

लखनऊ। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा है कि उत्तर प्रदेश में भाजपा सरकार कानून का शासन स्थापित करने में पूरी तरह फेल रही है। न तो पुलिस-प्रशासन सुचारू रूप से कार्य कर रहा है और नहीं भाजपा सरकार की भयमुक्त वातावरण स्थापित करने की कोई मंशा है। आये दिन अपराध की बढ़ रही घटनाओं से सूबे की साख गिर रही है।
 
यादव ने कहा कि पीलीभीत में चार साल की मासूम के साथ दुष्कर्म और एटा में किशोरी से उत्पीड़न की घटना यूपी में लिये शर्मनाक है। बहन-बेटियों की सुरक्षा न कर पाने की जिम्मेदार भाजपा सरकार को अविलम्ब बर्खास्त कर दिया जाना चाहिए। मुख्यमंत्री की हनक सिर्फ उनके बयानों में ही दिख रही है। अपराधियों पर उसका कोई असर नहीं पड़ रहा। पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा कानपुर में सहित पश्चिमी यूपी में हत्या की बढ़ रही घटनाओं से जनता डरी हुयी है। लखनऊ में प्रतिष्ठित सर्राफ के यहां लूट की घटना से राजधानी में भी भय का माहौल है।
 
उत्तर प्रदेश की जनता को अपनी सुरक्षा स्वयं करने को मजबूर है। यादव ने कहा कि पिछली समाजवादी सरकार की नीतियां प्रदेश की जनता के प्रति जिम्मेदार और जवाबदेह थी। यूपी की जनता को सुरक्षा और सम्मान दिलाना प्राथमिकता थी। बेहतर कानून-व्यवस्था के लिए यूपी डायल 100 की विश्वस्तरीय व्यवस्था से घटनाओं पर नियंत्रण था। पुलिस की कार्यशैली को पारदर्शी बनाने के लिये तकनीकि का प्रयोग किया गया था। महिलाएं स्वयं को सुरक्षित महसूस कर सके इसके लिए वूमेन पावर हेल्प लाइन प्रभावी रूप से सक्रिय था लेकिन भाजपा सरकार ने डायल 100 का नाम बदलकर इस व्यवस्था को शिथिल कर दिया।
 
पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा कि मौजूदा सरकार की प्राथमिकता में कानून व्यवस्था का कोई स्थान नही। भाजपा राज में संरक्षित अपराधों की बाढ़ आ गयी है। प्रदेश की जनता भाजपा के अच्छे दिनों के जुमलों से परिचित हो गयी है। जिसका परिणाम सत्ता परिवर्तन में दिखेगा।

Popular posts from this blog

अनेक बातें जो हम समझ नहीं पाते

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

पीसीएस मणि मंजरी राय आत्महत्या मामले में नया खुलासा, ड्राइवर गिरफ्तार