आंकड़ों में हेराफेरी करके बेरोजगारी दर कम करने का ढोंग कर रही है भाजपा- अजय कुमार लल्लू

लखनऊ। उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने प्रदेश की योगी सरकार पर रोजगार के झूठे ट्वीट और आंकड़े प्रस्तुत करने पर आड़े हाथों लेते हुए कहा है कि योगी सरकार रोजगारपरक नहीं बल्कि प्रचारजीवी सरकार बनकर रह गई है। बकायदा मुख्यमंत्री के आफीशियल हैंण्डिल से झूठे रोजगार के आंकड़े और रोजगार देने के झूठे दावे को ट्वीट कर प्रदेश के लाखों लाख बेरोजगारों को सिर्फ भरमाने का कार्य कर रही है।
 
प्रदेश में पहली बार बेरोजगारी अपने उफान पर है। रोजगार मांगने पर बेरोजगारों को लाठियां मिल रही हैं और मुकदमें लादे जा रहे हैं। प्रयागराज में रोजगार के लिए आन्दोलन कर रहे 103 बेरोजगारों पर मुकदमा दर्ज कर उत्पीड़नात्मक कार्यवाही तक करने में योगी सरकार नहीं हिचक रही। योगी सरकार सिर्फ पीआर, ब्रान्डिंग, होर्डिंग और प्रचार की सरकार बनकर रह गई है। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी ने अपने लोक संकल्प पत्र में 5 साल में 70 लाख रोजगार देने का वादा किया था, किन्तु मुख्यमंत्री द्वारा अपने कार्यकाल के लगभग 4 वर्ष की समाप्ति पर स्वयं की गयी घोषणा में महज 4 लाख रोजगार देने का झूठा दावा किया गया जो कि उनके वादे का मखौल उड़ाती है।
 
प्रदेश में सरकारी भर्तियों का बदहाल आलम यह है कि तमाम विभागों में 5 लाख पद रिक्त पड़े हैं और जो भी भर्तियां निकाली जाती हैं वह सभी घोटालों की भेंट चढ़ रही हैं। अजय कुमार लल्लू ने कहा कि इस समय बढ़ती बेरोजगारी और घटते विकास दर के कारण प्रदेश का नौजवान बेहाल है। बेरोजगारों को सरकार रोजगार दे पाने में अक्षम साबित हो रही है। बेरोजगारी लगातार बढ़ रही है। जिसके चलते प्रदेश में अराजकता का माहौल है। पिछले दो सालों में ही साढ़े बारह लाख पंजीकृत बेरोजगार बढ़े हैं। सरकार लम्बित भर्तियों पर कोई कारगर कदम नहीं उठा रही है। जिसके कारण बढ़ती बेरोजगारी दर चिन्ता का विषय बनी हुई है। सरकार द्वारा 90 दिनों में 5 लाख रोजगार देने जैसे झूठे दावे करके बेरोजगारों और युवाओं का मजाक उड़ा रही है।
 
उ0प्र0 में आर्थिक तंगी और बेरोजगारी के चलते आये दिन युवा बेरोजगारों की आत्महत्या के आंकड़े बढ़ रहे हैं। योगी सरकार आंकड़ों में हेराफेरी करके बेरोजगार युवाओं केा भ्रमित करने का कुत्सित प्रयास कर रही है। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि हर वर्ष बेरोजगारी लगातार बढ़ती जा रही है। सरकार का दावा है कि कोरोना की वजह से बेरोजगारी दर बढ़ी है जबकि 2018-19 का राष्ट्रीय सांख्यिकी का डाटा कहता है कि 2019 में उ0प्र0 में बेरोजगारी दर पूरे देश में सर्वाधिक थी। 2018 में भी बेरोजगारी दर 15.8 प्रतिशत के साथ पूरे देश में सर्वाधिक था। यूपी सरकार हर वर्ष लाखों बेरोजगार युवाओं की संख्या बढ़ा रही है।
 
स्वयं सहायता समूह बनाकर माइक्रो फाइनेन्स का वितरण कर सरकार बेरोजगारी से निपटने का दावा कर रही है जबकि सच्चाई यह है कि सरकार रोजगार के अवसर उपलब्ध कराने के बजाए बेरोजगारों को कर्जदार बना रही है। उ0प्र0 सहित देश के विभिन्न राज्यों के 75 हजार से ज्यादा एमएसएमई सेक्टर तबाह और बर्बाद हो गये हैं। उ0प्र0 के ही तमाम सूक्ष्म और लघु उद्योग बन्द होने के कगार पर हैं। सरकार उनको प्रत्यक्ष सहायता के माध्यम से उबारने के बजाए उनको कर्ज का लालीपाप दिखा रही है। अजय कुमार लल्लू ने कहा कि अब तक 36 लाख से अधिक बेरोजगार नौजवानों ने सरकारी रोजगार पोर्टल पर अपना पंजीकरण कराया है। प्रदेश में बेरोजगारी दर 16 प्रतिशत से अधिक है जो कि पूरे देश में सबसे अधिक है। यह प्रदेश की बेरोजगारी की भयावहता को दर्शाता है।
 
सरकार अपने अहंकार में इसका हल निकालने के बजाए रोजगार मांगने वाले नौजवानों के प्रति दमनात्मक कार्यवाही कर रही है। प्रयागराज में रोजगार मांग रहे 103 छात्र-छात्राओं पर मुकदमा दर्ज करना सरकार की निरंकुशता का प्रमाण है। सरकार बेरोजगारी के फर्जी आंकड़े प्रस्तुत करके बेरोजगारी की भयावह स्थिति को छिपाने का असफल प्रयास करती है। अजय कुमार लल्लू ने कहा कि कांग्रेस पार्टी बेरोजगारी के मुद्दे पर योगी सरकार को हर कदम पर घेरने का काम करेगी और योगी सरकार के झूठे आंकड़ों का पर्दाफाश करेगी। उन्होने कहा कि कांग्रेस पार्टी बेरोजगार युवाओं के हितों के लिए संघर्ष करेगी और उनकी आवाज बनेगी।

Popular posts from this blog

अनेक बातें जो हम समझ नहीं पाते

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

यूपी में पंचायत चुनाव को लेकर राज्य निर्वाचन आयोग ने शुरू की तैयारियां