यमुना नदी पर बन रहे पुल का निर्माण सबसे कम समय में पूरा करके देश में रिकाॅर्ड स्थापित करेगा यूपीडा



मुख्य कार्यपालक अधिकारी अवनीश कुमार अवस्थी द्वारा बुंदेलखण्ड एक्सप्रेसवे के निर्माण कार्य की समीक्षा बैठक की गयी। इस बैठक में निर्माण कम्पनियों से संबंधित अधिकारियों के अलावा यूपीडा के अन्य अभियन्ता सहित सभी वरिष्ठ अधिकारी मौजूद रहे।

परियोजना का अब तक लगभग 47 प्रतिशत भौतिक कार्य सम्पन्न हो चुका है, परियोजना में पड़ने वाली यमुना और बेतवा नदी पर पुलों का तीव्र गति से निर्माण चल रहा है। इस संदर्भ में अवस्थी द्वारा यह बताया गया कि यमुना नदी पर बन रहे पुल का निर्माण सबसे कम समय में पूरा करके देश में यूपीडा रिकाॅर्ड स्थापित करेगा। इसके साथ ही अवस्थी द्वारा यह भी निर्देश दिए गए कि आर0ओ0बी0 तथा आर0ई0 पैनल निर्माण के काम में तेजी के साथ स्ट्रक्चर्स से संबंधित काम में शीघ्रता लाई जाए, उन्होंने टोल प्लाजा निर्माण के काम में भी तेजी लाने के निर्देश दिए।

अवस्थी ने मिट्टी के शेष बचे हुए कार्य को तेजी के साथ करने और परियोजना के अन्तर्गत पड़ने वाले यूटिलिटी शिफ्टिंग के कार्यो को भी शीघ्रता से किए जाने हेतु निर्देशित किया, इसके साथ ही टेक्निकल आडीटर, अथाॅरिटी इंजीनियर एवं पी0आई0यू0 को गुणवत्ता की जांच लगातार करने के निर्देश दिए, ताकि परियोजना का कार्य उच्च गुणवत्ता के साथ कराया जा सके। बुंदेलखण्ड एक्सप्रेसवे परियोजना की कुल लम्बाई 296 किमी0 है तथा वर्तमान में इस परियोजना की कुल भौतिक प्रगति लगभग 47 प्रतिशत पूर्ण कर ली गई है।

अवस्थी ने यह भी बताया कि बुंदेलखण्ड एक्सप्रेसवे का निर्माण कार्य युद्ध स्तर पर हो रहा है और सभी फ्लाई ओवर पर तीव्रता से कार्य कराया जा रहा है। बुंदेलखण्ड एक्सप्रेसवे के प्रभारी मुख्य अभियन्ता मनोज कुमार गुप्ता द्वारा यह बताया गया कि एक्सप्रेसवे के निर्माण में विभिन्न ई0पी0सी0 काॅन्टैक्टर्स द्वारा सर्विस रोड एवं अन्य कार्य भी प्रगति पर है। बुन्देलखण्ड एक्सप्रेसवे में अब तक क्लीयरिंग एण्ड ग्रबिंग का कार्य 97 प्रतिशत और मिट्टी का कार्य 82 प्रतिशत से अधिक पूर्ण कर लिया गया है। कुल 818 में से 490 स्ट्रक्चर्स यानि आधे से अधिक का कार्य भी पूरा किया जा चुका है।

एक्सप्रेसवे पर 04 रेलवे ओवर ब्रिज, 14 दीर्घ सेतु, 06 टोल प्लाजा, 07 रैम्प प्लाजा, 268 लघु सेतु, 18 फ्लाई ओवर तथा 214 अण्डरपास का निर्माण कराया जायेगा। बुन्देलखण्ड एक्सप्रेसवे 04 लेन चैड़ा (6 लेन में विस्तारणीय) तथा संरचनाएं 06 लेन चैड़ाई की बनायी जायेंगी। एक्सप्रेसवे के एक ओर 3.75 मी0 चैड़ाई की सर्विस रोड स्टैगर्ड रूप में बनाई जायेगी जिससे परियोजना के आस-पास के गांव के निवासियों को एक्सप्रेसवे पर सुगम आवागमन की सुविधा उपलब्ध हो सके।

Popular posts from this blog

अनेक बातें जो हम समझ नहीं पाते

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

यूपी में पंचायत चुनाव को लेकर राज्य निर्वाचन आयोग ने शुरू की तैयारियां