औद्योगिक संपत्ति पर भारत-जापान सहयोग ज्ञापन के तहत चौथी समीक्षा बैठक आयोजित

वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय के उद्योग तथा आंतरिक व्यापार संवर्धन विभाग (डीपीआईआईटी) और जापान के अर्थव्यवस्था, व्यापार एवं उद्योग मंत्रालय (इसके बाद इन्हें मंत्रालयों के रूप में उद्धृत किया जाएगा) के जापान पैटेंट कार्यालय (जेपीओ) ने 12 मार्च, 2021 को एक वर्चुअल प्लेटफॉर्म के माध्यम से औद्योगिक संपत्ति पर सहयोग ज्ञापन के तहत चौथी समीक्षा बैठक आयोजित की।

बैठक के पहले चरण की सह-अध्यक्षता डीपीआईआईटी के सचिव डॉ. गुरुप्रसाद महापात्रा तथा जेपीओ के आयुक्त तोसीहिदे कसुतनी द्वारा की गई, जिसमें पायलट पैटेंट प्रोसेक्यूशन हाईवे (पीपीएच) प्रोग्राम के प्रथम वर्ष की समीक्षा की गई तथा दोनों पक्षों ने एक दूसरे के कार्यालयों को परस्पर रूप से सक्षम आईएसए/आईपीईए के रूप में स्वीकृति देने पर सहमति जताई। बैठक की दूसरे चरण की सह-अध्यक्षता डीपीआईआईटी के संयुक्त सचिव रविंदर तथा तोसीहिदे कसुतनी द्वारा की गई। मंत्रालयों ने औद्योगिक संपत्ति पर सहयोग ज्ञापन (एमओसी) के तहत प्रगति तथा एमओसी पर आधारित भारत के पैटेंट, डिजाइन एवं ट्रेडमार्क महानियंत्रक (सीजीपीडीटीएम) तथा जेपीओ (इसके बाद से इन्हें कार्यालयों के रूप में उद्धृत किया जाएगा के बीच कार्य योजना की समीक्षा की और भविष्य के सहयोग के लिए दोनों कार्यालयों के बीच सहयोगात्मक संबंध को और गहरा बनाने के विचारों की पुष्टि की।

बैठक में मंत्रालयों ने कोविड-19 महामारी के चुनौतीपूर्ण समय के बीच, उन नवोन्मेषणों जो हमारे समाज की सहायता करते हैं तथा निवेश एवं नवोन्मेषण को बढ़ावा देने के लिए एक मजबूत औद्योगिक संपत्ति प्रणाली के महत्व की पुष्टि की। मंत्रालयों ने आईपी प्रवर्तन को मजबूत बनाने, क्षमता निर्माण में वृद्धि करने, आईपी जागरूकता बढ़ाने और लक्ष्यों को बढ़ावा देने के लिए नवोन्मेषण को प्रोत्साहित करने के महत्व को स्वीकार किया। डीपीआईआईटी ने पिछली बैठक के बाद भारत से आने वाले प्रशिक्षुओं के स्वागत के लिए प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित करने में उसके सहयोग के लिए जेपीओ की सराहना की तथा जेपीओ ने भारतीय हितधारकों के लिए आमंत्रणपूर्ण प्रशिक्षण कार्यक्रम के आयोजन को जारी रखने पर सहमति जताई।

औद्योगिक संपत्ति के रूप में औद्योगिक डिजायनों के महत्व को स्वीकार करते हुए मंत्रालयों ने औद्योगिक डिजायन शिक्षा में सहयोग जारी रखने पर सहमति जताई। दोनों पक्षों ने 1 जुलाई, 2021 से पीसीटी के तहत सक्षम आईएसए/आईपीईए के रूप में परस्पर कार्यशील कार्यालय का कामकाज आरंभ करने पर सहमति जताई। मंत्रालयों ने आवश्यकता होने पर सुगम एवं उपयुक्त प्रचालन के लिए विशेषज्ञों की एक बैठक आयोजित करने पर भी सहमति जताई। उन्होंने जापान-भारत पैटेंट प्रोसेक्यूशन हाईवे (पीपीएच) पायलट प्रोग्राम के कार्य-कलाप पर चर्चा करने के लिए साल में कम से कम एक बार विशेषज्ञों की एक बैठक आयोजित करने का फैसला किया।

उन्होंने पैटेंट परीक्षा अभ्यासों की परस्पर समझ को और बढ़ाने के लिए कार्यालयों से पैटेंट विशेषज्ञों के एक सूचना विनिमय कार्यक्रम का आयोजन जारी रखने पर भी सहमति जताई। उन्होंने आईटी बुनियादी ढांचे के विकास से संबंधित पहलों पर सूचना एवं अनुभवों को साझा करने के लिए कार्यालयों के बीच साल में एक बार आईटी विशेषज्ञ बैठक आयोजित करने पर भी सहमति जताई।

Popular posts from this blog

अनेक बातें जो हम समझ नहीं पाते

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

पीसीएस मणि मंजरी राय आत्महत्या मामले में नया खुलासा, ड्राइवर गिरफ्तार