संजय सिंह ने राम मनोहर लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान के शिक्षकों के उत्पीड़न का मुद्दा सदन में उठाया

लखनऊ। आम आदमी पार्टी के यूपी प्रभारी एवम राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने गुरुवार को सदन में उत्तर प्रदेश के राम मनोहर लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान में संविदा शिक्षकों के उत्पीड़न का मामला उठाया। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश के डॉ राम मनोहर लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान में उत्पीड़ित शिक्षक कई दिनों से संघर्षरत है, कोरोना महामारी के दौरान शिक्षकों ने उल्लेखनीय योगदान दिया। संस्थान में नए शिक्षकों की नियुक्ति एवं पदोन्नति को लेकर शिक्षक लगातार आवाज उठा रहे हैं, उन्होंने मांग की है कि सरकार शिक्षकों की मांगों को पूरा करे।
 
उन्होंने कहा विश्व के शिखर पर 400 विश्वविद्यालयों में से केवल 02 ही भारतीय संस्थान है इसका कारण यह नहीं है कि भारत में शिक्षकों की योग्यताओं में कमी आ गई है बल्कि शिक्षकों को उनकी मेहनत के बदले बराबर प्रोत्साहन नहीं मिल पा रहा है शिक्षक अपर्याप्त वेतन के कारण संविदा, पदोन्नति जैसी समस्याओं से जूझ रहे हैं। भारत में पहले से ही शिक्षकों एवं संस्थानों के पास पर्याप्त संसाधनों की कमी है और उनकी आय और नौकरियों को भी असुरक्षित बना दिया गया है तो कैसे अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भारत के संस्थानों को स्थान दिलाया जा सकेगा ?

केंद्र सरकार के इस फैसले को गरीबों पर अत्याचार बताते हुए कहा कि जरूरतमंदों के लिए प्रधानमंत्री आवास सस्ते करने की जगह सरकार ने इसकी कीमत डेढ़ लाख रुपए और बढ़ा दी है। सरकार के इस कदम से बहुत से जरूरतमंद आवास पाने से वंचित रह जाएंगे। सरकार उन्हें पहले सस्ते घर का सपना दिखाती है और फिर बाद में खुद ही उनके स्वप्न तोड़ने का काम कर रही है। आम आदमी पार्टी इस जनविरोधी फैसले का विरोध करते हुए केंद्र सरकार से मामले में पुनर्विचार करने की अपील करती है। आम आदमी पार्टी के राज्यसभा सांसद एवं उत्तर प्रदेश के प्रभारी संजय सिंह ने गुरुवार को योगी सरकार पर करारा हमला बोला। बुधवार को हुए आप के प्रदर्शन के दौरान पुरुष पुलिसकर्मी द्वारा महिला के बाल पकड़कर खींचने की घटना की निंदा करते हुए उन्होंने कहा कि प्रदेश में महिलाओं के सम्मान का दिखावा करने वाली योगी सरकार की यही असलियत है।
 
राष्ट्रकवि रामधारी सिंह दिनकर की पंक्तियों को ट्वीट करते हुए संजय सिंह ने कहा कि योगी सरकार का विवेक मर गया है और उसका नाश सन्निकट है। संजय सिंह ने कहा, सरकार ने जनता द्वारा चुनी हुई दिल्ली सरकार की शक्तियां छीनने की साजिश करते हुए संसद में एक बिल पेश किया है। संविधान विरोधी इस बिल के खिलाफ आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने बुधवार को पूरे देश में शांतिपूर्ण प्रदर्शन किया। लखनऊ में प्रदर्शन के दौरान योगी की पुलिस ने न सिर्फ कार्यकर्ताओं पर लाठीचार्ज किया बल्कि महिलाओं से अभद्रता भी की। इस घटना को लेकर संजय सिंह ने ट्वीट भी किया। उन्होंने ट्वीट में लिखा है कि "ये है आदित्यनाथ का “मिशन नारी शक्ति”। 'आप' महिला विंग की प्रदेश अध्यक्ष नीलम यादव के बाल खींचता ये पुलिस अधिकारी आदित्यनाथ राज की तानाशाही बयाँ कर रहा है।

Popular posts from this blog

अनेक बातें जो हम समझ नहीं पाते

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

पीसीएस मणि मंजरी राय आत्महत्या मामले में नया खुलासा, ड्राइवर गिरफ्तार