एयरपोर्ट और रेलवे स्टेशनों पर लगाए जाएंगे ओडीओपी के स्टाल- मुख्यमंत्री

गोरखपुर। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के मेगा प्रोजेक्ट एक जिला, एक उत्पाद (ओडीओपी) को अब राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर नई पहचान मिलेगी। इसके लिए पब्लिसिटी, ब्रांडिंग और मार्केटिंग की खास योजना बनाई गई है। इसके तहत एयरपोर्ट और रेलवे स्टेशनों पर अब स्टाल लगाए जाएंगे, जहां सिर्फ ओडीओपी उत्पाद की ही बिक्री होगी।

इसके अलावा ओडीओपी उत्पादों की ब्रांडिंग और प्रचार के लिए हर जिले में स्टेशनों, सरकारी भवनों और प्रमुख सार्वजनिक स्थानों पर ग्लो शाइन बोर्ड लगाए जाएंगे। इन बोर्ड की डिजाइन उस जिले के ओडीओपी उत्पाद के अनुरूप होगी। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 2018 में प्रदेश के अलग-अलग जिलों में वहां के पारंपरिक शिल्पकला, विशिष्ट कृषि आदि के उद्यम को सुगठित उद्योग-कारोबार का दर्जा देने के लिए ओडीओपी योजना का शुभारंभ किया था। मंशा बिलकुल साफ थी जिलों के हुनर की परंपरा को व्यावसायिक रूप देकर हुनरमंदों को इस कदर स्वावलंबी बनाना, जिससे वह अपनी उद्यमिता के विस्तार से रोजगारदाता भी बन सकें।

तीन सालों में ओडीओपी से हर जिले में पारंपरिक उद्यम की न सिर्फ मजबूत पहचान बनी है, बल्कि इसके बाजार में भी तेजी से विस्तार हुआ है। ओडीओपी को बढ़ावा देने के लिए इसके दायरे में आने वाले उत्पादों की प्रदर्शनी-महोत्सव के आयोजन के साथ सरकार इन उत्पादों को राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बड़ा बाजार दिलाने के लिए भी सतत प्रयत्नशील है। सरकार के इन्हीं प्रयासों की कड़ी में रेलवे स्टेशनों और एयरपोर्ट पर ओडीओपी स्टाल खोले जाएंगे। इसके लिए इन स्थानों पर जमीन लीज पर लेकर स्टाल लगाने के इच्छुक लोगों को दी जाएगी। स्टाल लगाने वाले के साथ 15 साल का अनुबंध इस शर्त के साथ होगा कि वह सिर्फ ओडीओपी उत्पाद ही बेचेगा।

रेलवे स्टेशनों और एयरपोर्ट पर देश के अन्य राज्यों के अलावा विदेश से भी काफी सैलानी आते हैं, यहां स्टाल होने पर ओडीओपी के यूनिक प्रोडक्ट उन्हें अपनी ओर आकर्षित करने में सफल होंगे और उन्हें बड़ा बाजार भी मिल सकेगा। सरकार ओडीओपी को सुपर ब्रांड बनाने में भी लगातार प्रयासरत है। ब्रांडिंग के लिए शासन के ओडीओपी सेल ने हर जिले में प्रचार के लिए फंड आवंटित किया है। इसके लिए ग्लो शाइन बोर्ड बनाए जा रहे हैं, जिन्हें स्टेशनों के अलावा प्रमुख सार्वजनिक स्थानों और सरकारी भवनों पर लगाया जाएगा। इन स्थानों पर फुटफाल बहुत अधिक होता है और यहां आने वाले लोग बार-बार ओडीओपी उत्पाद के बारे में जान सकेंगे। ग्लो शाइन बोर्ड की डिजाइन संबंधित जिले के ओडीओपी उत्पाद के अनुरूप होगी।

Popular posts from this blog

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

स्वस्थ जीवन मंत्र : चैते गुड़ बैसाखे तेल, जेठ में पंथ आषाढ़ में बेल

एकेटीयू में ऑफलाइन परीक्षा को ऑनलाइन कराए जाने के संबंध में कुलपति को सौंपा गया ज्ञापन