सेवा करना जीव का स्वभाव है

दो वस्तु जीवन मे होती है एक निज स्वाभाव और दूसरा औरों का प्रभाव अधिकतर हम सब अपने स्वाभाव में नहीं औरों के प्रभाव में जीते हैं। हमे जो चाहिए वो पाने के लिए यत्न करें वो हुआ स्वभाव और औरो को पाया हुआ देखकर वो पाने का हम भी यत्न करें ये हुआ प्रभाव जब तक कुछ पाना बाकी हो तो अपने मूल स्वाभाव का परिचय नहीं होता क्योंकि हम अपनी कामनाओ के प्रभाव में जीते हैं।

जब जीवन मे कुछ भी पाना बाकी न रहा हो तो जो करने का मन हो वो हमारा मूल स्वाभाव है सेवा करना जीव का स्वभाव है जीवन मे कुछ पाना बाकी न रहा हो तब हमारे मूल स्वभाव की वृत्ति जागती हैं।

Popular posts from this blog

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

स्वस्थ जीवन मंत्र : चैते गुड़ बैसाखे तेल, जेठ में पंथ आषाढ़ में बेल

एकेटीयू में ऑफलाइन परीक्षा को ऑनलाइन कराए जाने के संबंध में कुलपति को सौंपा गया ज्ञापन