निर्धारित समय सारिणी के अनुसार पूरी हों निर्माणाधीन परियोजनाएं - मुख्य सचिव



लखनऊ। मुख्य सचिव राजेन्द्र कुमार तिवारी की अध्यक्षता में आयोजित बैठक में वीडियो कान्फ्रेन्सिंग के माध्यम से वाराणसी के विकास कार्यों की समीक्षा की गयी। बैठक में वाराणसी जनपद में 10 करोड़ से अधिक लागत के निर्माण कार्यों, वाराणसी जनपद में संचालित महत्वपूर्ण परियोजनाओं की विभागवार उपयोगिता प्रमाण पत्र एवं धनराशि अवमुक्त करने की स्थिति, वाराणसी जनपद में ऐसी पूर्ण परियोजनाओं जिनके संचालन के लिए मानव संसाधन, उपकरण, फर्नीचर आदि की आवश्यकता है, की उपलब्धता की स्थिति, नवीन परियोजनाओं की स्वीकृति की अद्यतन स्थिति आदि की परियोजनावार विस्तार से गहन समीक्षा की गयी। 

अपने सम्बोधन में मुख्य सचिव राजेन्द्र कुमार तिवारी ने कहा कि निर्माणाधीन सभी परियोजनाएं निर्धारित टाइमलाइन के अनुसार पूरी हों तथा ऐसी पूर्ण परियोजनाएं जिनके संचालन के लिए मैनपाॅवर, उपकरण, फर्नीचर आदि की आवश्यकता है, के लिए तत्काल आवश्यक कार्यवाही सुनिश्चित की जाये ताकि उनका लाभ प्राप्त करने के लिए जन-सामान्य को और इंतजार न करना पड़े। उ

उन्होंने मण्डलायुक्त वाराणसी से कहा कि निर्माणाधीन परियोजनाओं की भौतिक एवं वित्तीय प्रगति की मासिक समय सारिणी बना ली जाये और उसी के अनुसार प्रगति की नियमित समीक्षा की जाये। जल निगम की निर्माणाधीन परियोजनाओं की प्रगति की समीक्षा के दौरान मुख्य सचिव ने कहा कि यह सुनिश्चित किया जाये कि जल निगम का पर्याप्त स्टाफ एवं कान्ट्रैक्टर का पर्याप्त मैनपाॅवर हमेशा उपलब्ध रहे तथा सचिव नगर विकास इसकी साप्ताहिक समीक्षा करें, ताकि जल निगम की निर्माणाधीन परियोजनाएं निर्धारित समय में पूरी हो जायें। श्री काशी विश्वनाथ काॅरीडोर के निर्माण की प्रगति समीक्षा में मुख्य सचिव ने समस्त कार्य माह अक्टूबर, 2021 तक पूरा करने के निर्देश दिये। इस सम्बन्ध में अपर मुख्य सचिव धर्मार्थ कार्य ने बताया कि कार्य की प्रगति 46 प्रतिशत है तथा सभी कार्य तेजी से चल रहे हैं। 

इससे पूर्व जनपद वाराणसी में 10 करोड़ रु0 से अधिक की निर्माणाधीन परियोजनाओं की प्रगति की जानकारी देते हुए मण्डलायुक्त वाराणसी दीपक अग्रवाल ने बताया कि राष्ट्रीय राजमार्ग सं0-233 घाघरा ब्रिज-वाराणसी डिवीजन के सड़क चैड़ीकरण प्रोजेक्ट का करीब 91 प्रतिशत, राष्ट्रीय राजमार्ग सं0-56 सुल्तानपुर-वाराणसी डिवीजन के चैड़ीकरण का करीब 83 प्रतिशत, राष्ट्रीय राजमार्ग सं0-29 वाराणसी-गोरखपुर सेक्शन के चैड़ीकरण प्रोजेक्ट का करीब 90 प्रतिशत कार्य पूरा हो चुका है तथा उक्त कार्य क्रमशः माह मई 2021, जून 2021 तथा माह अप्रैल 2021 तक पूर्ण हो जायेंगे। 

इसके अतिरिक्त कोनिया-सालारपुर मार्ग पर वरूणा नदी पर पुल का निर्माण 92 प्रतिशत, तीन लेन ओवर पास रेलवे ब्रिज संपार नं0-20 का करीब 98 प्रतिशत, फोरलेन रेलवे ओवरब्रिज बाबतपुर-कपसेठी-भरोली रोड करीब 74 प्रतिशत पूरा हो गया है तथा उक्त सभी कार्य क्रमशः माह मार्च 2021, माह मार्च 2021 तथा माह जून 2021 तक पूर्ण हो जायेंगे। पंचकोसी परिक्रमा मार्ग प्रोजेक्ट का 90 प्रतिशत, भिरवारीपुर तिराहे से एनएच-2 तक चैड़ीकरण व सुदृढ़ीकरण प्रोजेक्ट का 85 प्रतिशत, श्री लाल बहादुर शास्त्री हाॅस्पिटल रामनगर के उच्चीकरण प्रोजेक्ट का 97 प्रतिशत, इंटरनेशनल कन्वेंशन सेन्टर प्रोजेक्ट का 99 प्रतिशत, गौदौलिया में मल्टीस्टोरी टू व्हीलर पार्किंग परियोजना का 90 प्रतिशत, मछोदोरी स्मार्ट स्कूल एण्ड स्किल डेवलपमेन्ट सेन्टर का 88 प्रतिशत, टाउनहाल पार्क एवं पार्किंग का पुर्नविकास प्रोजेक्ट का 63 प्रतिशत, वाराणसी के 09 कुण्डों का संरक्षण एवं सौन्दर्यीकरण प्रोजेक्ट का 75 प्रतिशत कार्य पूरा किया जा चुका है तथा अवशेष कार्य निर्धारित टाइम के अनुसार तेजी से किये जा रहे हैं। इसी प्रकार अस्सीघाट से राजघाट तक क्रूज बोट संचालन से सम्बन्धित 95 प्रतिशत कार्य पूरा हो गया है। वरूणा नदी के कोस्टल डेवलपमेन्ट व चैनलाइजेशन का 99 प्रतिशत कार्य पूरा हो गया है। यह दोनों प्रोजेक्ट इसी माह पूरे हो जायेंगे। वाराणसी अर्बन गैस डिस्ट्रीब्यूशन प्रोजेक्ट तृतीय का 75 प्रतिशत कार्य पूरा हो गया है, तथा परियोजना माह मार्च, 2023 तक पूर्ण किये जाने का लक्ष्य है। डिस्ट्रिक्ट कोर्ट बिल्डिंग प्रोजेक्ट का 99 प्रतिशत, सर्किट हाउस अण्डर ग्राउण्ड पार्किंग प्रोजेक्ट का 70 प्रतिशत, कुरू पिण्डरा कपसेठी बाबतपुर रोड स्थित राज्य पाॅलिटेक्निक निर्माण प्रोजेक्ट  का 62 प्रतिशत तथा केन्द्रीय कारागार में बैरक निर्माण प्रोजेक्ट का 78 प्रतिशत कार्य पूरा हो गया है। 

इसके अलावा बैठक में यह भी बताया गया कि सर सुन्दर लाल हाॅस्पिटल में 100 बेडेड एमसीएच विंग का निर्माण पूरा हो गया है। इसी प्रकार काशी हिन्दू यूनिवर्सिटी में रीजनल इंस्टीट्यूट ऑफ ऑपथैल्मोलाॅजी का निर्माण भी पूरा हो गया है। उक्त दोनों संस्थानों के संचालन के लिए आवश्यक उपकरण एवं मैनपाॅवर उपलब्ध कराने के लिए आवश्यक कार्यवाही प्रचलित है। 

Popular posts from this blog

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

स्वस्थ जीवन मंत्र : चैते गुड़ बैसाखे तेल, जेठ में पंथ आषाढ़ में बेल

एकेटीयू में ऑफलाइन परीक्षा को ऑनलाइन कराए जाने के संबंध में कुलपति को सौंपा गया ज्ञापन