सरकारी संस्थानों का निजीकरण कर आरक्षण को खत्म करना चाहती है केंद्र सरकार- संजय सिंह

लखनऊ। आम आदमी पार्टी के उत्तर प्रदेश प्रभारी राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने सोमवार को जारी बयान में कहा कि सरकारी संस्थानों का निजीकरण कर केंद्र सरकार आरक्षण को खत्म करना चाहती है। उन्होंने कहा कि शुरू से निजीकरण का विरोध कर रहे हैं।

हाल ही में सदन में एक बार फिर बताया कि किस तरह से रेल, सेल, एयरपोर्ट, स्टेडियम ही नहीं भाजपा पूरा हिंदुस्तान बेचने की योजना बना चुकी है। तमाम सरकारी संस्थानों विभागों का निजीकरण करने में जुटी केंद्र सरकार इस तरह आरक्षण हटाने की साजिश रच रही है। उन्होंने कहा कि एक समय बीजेपी निजीकरण की सबसे बड़ी विरोधी थी और आज बीजेपी ही इसकी सबसे बड़ी समर्थक। इसी के लिए एफडीआई में विदेशी पूंजी निवेश 49 से बढ़ाकर 75 करने की तैयारी है।

राज्यसभा सांसद ने कहा कि एक तरफ किसान काले कानूनों के खिलाफ बलिदान दे रहे हैं, दूसरी ओर नौजवान नौकरी के लिए लाठियां खा रहा है। इन सब पर ध्यान न देकर मोदी के चंद पूंजीपति मित्रों की तिजोरी भरने के लिए सरकार का पूरा जोर निजीकरण पर है। आम आदमी पार्टी पुरजोर तरीके से इस मुद्दे पर विरोध दर्ज कराती रहेगी। हम बताते रहेंगे कि जो मोदी कल तक कहते थे देश नहीं बिकने दूंगा, वह आज सब कुछ बेचने में लगे हैं। देश की जनता भी भाजपा का असली चेहरा देख चुकी है। आने वाले चुनाव में भाजपा की विदाई तय है।

Popular posts from this blog

अनेक बातें जो हम समझ नहीं पाते

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

पीसीएस मणि मंजरी राय आत्महत्या मामले में नया खुलासा, ड्राइवर गिरफ्तार