पांच दिवसीय इंटीग्रेटेड पेस्ट मैनेजमेंट (आई.पी.एम.) प्रशिक्षण कार्यक्रम का हुआ समापन

लखनऊ वनस्पति संरक्षण, संगरोध एवं संग्रह निदेशालय, भारत सरकार के उप कार्यालय क्षेत्रीय केन्द्रीय एकीकृत नाशीजीव प्रबंधन केंद्र लखनऊ में विगत पांच दिनों से चल रहे आई पी एम प्रशिक्षण कार्यक्रम का समापन हुआ। कार्यक्रम में भारत सरकार के वनस्पति संरक्षण सलाहकार डॉ. रवि प्रकाश बतौर मुख्य अतिथि तथा डॉ. अजीत प्रकाश, निदेशक कृषि, उत्तर प्रदेश सरकार विशिष्ट अतिथि के रूप में शामिल हुए।

आरसीआईपीएमसी, लखनऊ के प्रभारी डॉ. ज्ञान प्रकाश सिंह ने पांच दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम की रूप रेखा और सफल समापन के बारे में अतिथि गणमान्यों को अवगत कराते हुए बताया कि रासायनिक कीटनाशी के अंधाधुंध उपयोग की वजह से होने वाले दुष्परिणाम को रोकने एवं फसल संरक्षण हेतु रासायनिक कीटनाशी के प्रयोग के विकल्प के रूप में भारत सरकार द्वारा अपनाये गए आई .पी. एम. विधि को किसानों तक पहुँचाने हेतु  राज्य कृषि विभाग के पदाधिकारियों को प्रशिक्षित किया गया। परिणामस्वरुप रासायनिक कीटनाशी की वजह से होने वाला पर्यावरणीय प्रदूषण कम होगा तथा किसानों की रासायनिक कीटनाशी पर लगने वाला लागत कम होने के साथ-साथ बगैर कीटनाशी के कृषि उत्पाद पैदा होगा जिसके विपणन एवं निर्यात से अच्छा  मूल्य मिलेगा जो कि किसानों की आय दोगुनी करने हेतु एक महत्वपूर्ण उपाय है।


डॉ. रवि प्रकाश, वनस्पति संरक्षण सलाहकार, भारत सरकार ने प्रतिभागियों को संबोधित करते हुए बताया कि आई पी एम वनस्पति संरक्षण के साथ-साथ पर्यावरण, पारिस्थितिक तंत्र, जैव विविधता एवं प्रकृति को सुरक्षित तथा समाज को स्वस्थ एवं संपन्न बनाने का एक महत्वपूर्ण आयाम है वनस्पति संरक्षण सलाहकार ने निदेशक कृषि, उत्तर प्रदेश से सत्र 2021-22 के लिए प्रदेश में संभावित टिड्डी आक्रमण की आकस्मिक स्थिति में टिड्डी नियंत्रण हेतु कर्मचारियों एवं नियंत्रण उपकरणों की मुस्तैदी के बारे में चर्चा कर जानकारी प्राप्त किया

डॉ. अजीत प्रकाश, निदेशक कृषि, उत्तर प्रदेश सरकार ने प्रशिक्षण प्राप्त राज्य कृषि विभाग के पदाधिकारियों को संबोधित करते हुए कहा कि समस्त प्रशिक्षणार्थी अब मास्टर ट्रेनर हो गए हैं और अपने अपने तैनाती क्षेत्र में कृषि रक्षा हेतु आई पीएम को बढ़ावा दें तथा किसानों में जागरूकता पैदा कर आई पीएम अपनाने हेतु अन्नदाता को प्रेरित करें। अतिथि गणमान्यों ने आर सी आई पी एम सी, जैविक भवन की जैव नियंत्रण प्रयोगशाला का भ्रमण कर जायजा लिया तथा प्रयोगशाला की गुणवत्ता एवं स्वच्छता को देखकर जैविक भवन के अधिकारियों का उत्साहवर्धन कर प्रेरित किया। अमित कुमार सिंह, पीपीओ ने अतिथिगणों को कार्यालय की और से धन्यवाद ज्ञापित किया तथा अमित सिंह, एपीपीओ ने कार्यक्रम का सफल संचालन किया।

Popular posts from this blog

अनेक बातें जो हम समझ नहीं पाते

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

पीसीएस मणि मंजरी राय आत्महत्या मामले में नया खुलासा, ड्राइवर गिरफ्तार