ना भय में रहो, ना निराशा में

जगत में सर्वश्रेष्ठ व्यक्तित्व यदि किसी के पास है तो वह मनुष्य है। वह ना केवल स्वयं के जीवन को आंनद और उल्लास कैलाश पर पहुँचाने में समर्थ है अपितु समस्त प्रकृति, समस्त जीव-जंतु और समस्त वातावरण को भी आंनद देने में समर्थ है।

इंसान की उपलब्धियाँ आश्चर्यचकित करने वाली हैं अपने प्रचुर आत्मबल के बल पर उसने बहुत सारी समस्याओं को सुलझाया है लेकिन हैरानी की बात यह है दुनिया की बड़ी से बड़ी समस्या को सुलझाने की समझ और सामर्थ्य रखने वाला मनुष्य पिछले कुछ समय से खुद अकारण की ऐसी गुत्थियों में उलझा पड़ा है, जो सुलझने में नहीं आ रहीं।

समस्याएं वास्तव में इतनी बड़ी हैं कि उनका हल संभव नहीं है या मनुष्य ने समस्याओं के आगे समर्पण कर दिया है अध्यात्म व्यक्ति के आत्मबल को बढ़ाता है और निराशा को समाप्त करता है ना भय में रहो, ना निराशा में और ना अविश्वास में अभी बहुत सृजन आपके द्वारा होना है।

Popular posts from this blog

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

स्वस्थ जीवन मंत्र : चैते गुड़ बैसाखे तेल, जेठ में पंथ आषाढ़ में बेल

एकेटीयू में ऑफलाइन परीक्षा को ऑनलाइन कराए जाने के संबंध में कुलपति को सौंपा गया ज्ञापन