चार साल का सच दिखा रहे बदहाल स्कूल और अस्पताल- वैभव माहेश्वरी


लखनऊ। योगी सरकार तारीफ लायक नहीं है। वैश्विक महामारी कोरोना काल में इस सरकार के अफसरों ने घोटाला किया और सरकार कान में तेल डालकर सोती है। ऑक्सीजन के अभाव में 67 बच्चों की मौत इसी सरकार के कार्यकाल के दौरान हो गई। 4 साल का सच बदहाल स्कूल और अस्पताल दिखा रहे हैं। मीडिया को जारी बयान में आम आदमी पार्टी के लखनऊ जिलाध्यक्ष वैभव माहेश्वरी ने ये बातें कहीं।

आप जिलाध्यक्ष, प्रदेश प्रवक्ता वैभव माहेश्वरी ने कहा कि उत्तर प्रदेश में बदहाल स्कूल और अस्पताल के लिए आखिर कौन जिम्मेदार है। वैभव ने योगी सरकार पर कड़ा तंज कसते हुए कहा कि हाथरस में बेटी का बलात्कार हुआ, पुलिस ने रात में जबरदस्ती उसकी लाश को फूंक दिया। पूछा, क्या इन गंदे कामों के लिए हम योगी सरकार की तारीफ करें? वैभव माहेश्वरी ने कहा कि भाजपा के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपने बलात्कारी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर को बचाने की भरसक कोशिश की। यह तो योगी सरकार की हकीकत है।

आम आदमी पार्टी की छात्र इकाई के प्रदेश अध्यक्ष वंशराज दुबे ने आदित्यनाथ सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि सत्ता में आने से पहले आदित्यनाथ ने यूपी के नौजवानों को 5 सालों में 70 लाख नौकरियों देने का वादा किया था। योगी ने कहा था कि 90 दिन के अंदर सारी की सारी खाली भर्तियों को भरने का वादा किया था। भाजपा ने 2017 में अपने संकल्प पत्र में उत्तर प्रदेश के छात्रों नौजवानों के लिए कहा था कि प्रदेश के कॉलेजों और विश्वविद्यालयों में 'शोध एवं विकास' पर विशेष जोर दिया जाएगा। प्रदेश में अंतर्राष्ट्रीय स्तर के 10 नए विश्वविद्यालयों की स्थापना की जाएगी, प्रदेश के सभी शिक्षा मित्रों की रोजगार समस्या को 3 महीने में न्यायोचित तरीकों से सुलझाया जाएगा, किंतु भारतीय जनता पार्टी ने 4 सालों में उत्तर प्रदेश के छात्र-नौजवानों को सिर्फ और सिर्फ ठगने का काम किया।

उत्तर प्रदेश में उत्तर प्रदेश के नौजवानों को नौकरियों देने का जिम्मा जिस आयोग के ऊपर है उत्तर प्रदेश अधीनस्थ सेवा चयन आयोग उस आयोग में आदित्यनाथ सरकार ने 12 भर्तियां निकाली और सच्चाई यह है कि अभी उन सभी 12 भर्तियों में किसी भी नौजवान को नियुक्ति नहीं मिली सरकार ने 12000 पद निकाले लेकिन दावा यह हुआ कि हमने उत्तर प्रदेश अधीनस्थ सेवा चयन आयोग में 19000 पदों पर भर्तियां की तो आदित्यनाथ यह बताएं कि क्या 7000 भर्तियां उत्तर प्रदेश में भूतों की कर दी गईं। 

उत्तर प्रदेश अधीनस्थ सेवा चयन आयोग से 3000 बढ़ा दी गयी है अभी पिछ्ले 6 महिनो मे कोई भर्ती पूरी तो हुई नहीं तो 3000 का आँकड़ा कहाँ से आया। कृषि सेवा में 2059 पद जुड़ा दिये गये है जो अभी पूरी ही नहीं हुई है। पुलिस में 17000 लोग अभी भी ट्रेनिंग के लिए बैठे हैं और विभागों में ये आंकड़े कहां से लाए हैं पता नहीं।

Popular posts from this blog

अनेक बातें जो हम समझ नहीं पाते

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

पीसीएस मणि मंजरी राय आत्महत्या मामले में नया खुलासा, ड्राइवर गिरफ्तार