अर्थ कमाओ, अर्थ भी देव है



अर्थ कमाओ, अर्थ भी देव है धर्मपूर्वक कमाया है तो, नहीं तो अर्थ, अनर्थ का कारण बनेगा आप ताकतवर  है तो सोने की नगरी बनाओ उसके मालिक बनो। 

 सावधानी इतनी बरतो कि वह नगर द्वारिका हो, लंका न हो हमारा आदर्श द्वारिकाधीश श्री कृष्ण हो, दशानन रावण नहीं नीति की नींव पर खड़ी द्वारिका जिसमें भगवान का निवास है, अनीति से बनाई हुई लंका ये भोगवादी नगर है।

रामचरितमानस में तीन नगर है जहाँ प्रभु श्री राम पधारते हैं- अयोध्या, मिथिला और लंका लंका  जीव की बध्य दशा का प्रतीक है अयोध्या साधक दशा का प्रतीक है और मिथिला सिद्ध दशा का प्रतीक है लंका विषयी बाध्य है।

Popular posts from this blog

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

स्वस्थ जीवन मंत्र : चैते गुड़ बैसाखे तेल, जेठ में पंथ आषाढ़ में बेल

एकेटीयू में ऑफलाइन परीक्षा को ऑनलाइन कराए जाने के संबंध में कुलपति को सौंपा गया ज्ञापन