आने वाले वर्षाें में लखनऊ देश के टाॅप-03 शहरों में होगा सम्मिलित- मुख्यमंत्री


लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व एवं मार्गदर्शन में देश व प्रदेश के विकास के साथ-साथ ईज ऑफ़ लिविंग के लक्ष्य के लिए कार्य किया जा रहा है। इसके अन्तर्गत लोगों के जीवन को सुविधाजनक बनाने के लिए लोक कल्याणकारी योजनाओ को प्रभावी ढंग से लागू किया जा रहा है। साथ ही, प्रगति के नये आयाम तय करने के लिए बुनियादी ढांचे का तीव्र गति से विकास कराया जा रहा है। अन्तर्राष्ट्रीय मानक के संस्थानों की स्थापना भी करायी जा रही है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार प्रदेश के नागरिकों के हित में संचालित भारत सरकार की सभी परियोजनाओं हेतु पूरा सहयोग प्रदान कर रही है।

मुख्यमंत्री आज यहां विकास नगर स्थित मिनी स्टेडियम में जनपद लखनऊ की 280 करोड़ रुपये की लागत की 02 फ्लाईओवर परियोजनाओं के लोकार्पण एवं शिलान्यास कार्यक्रम में अपने विचार व्यक्त कर रहे थे। कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री, केन्द्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह तथा केन्द्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या-24ए के किलोमीटर 2.50 (टेढ़ी पुलिया चैराहे) पर जंक्शन सुधार सहित 04 लेन फ्लाईओवर का लोकार्पण तथा राष्ट्रीय मार्ग संख्या-24ए के किलोमीटर संख्या 5.047 (खुर्रम नगर चैराहे) पर जंक्शन सुधार सहित 04 लेन फ्लाईओवर का शिलान्यास किया।


मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री के मार्गदर्शन में राज्य में इन्फ्रास्ट्रक्चर विकास के क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य हुआ है। इण्टर स्टेट मार्गाें एवं जिला मुख्यालयों को 04 लेन तथा तहसील व ब्लाक मुख्यालयों को 02 लेन सड़क मार्गाें से जोड़ने का कार्य अंतिम चरण में है। प्रदेश में 05 एक्सप्रेस-वे निर्माणाधीन हैं। पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे का कार्य अंतिम चरण में है। बुन्देलखण्ड एक्सप्रेस-वे का लगभग 50 प्रतिशत कार्य पूर्ण हो गया है। गोरखपुर लिंक एक्सप्रेस-वे एवं बलिया लिंक एक्सप्रेस-वे पर युद्धस्तर पर कार्य चल रहा है। मेरठ से प्रयागराज तक गंगा एक्सप्रेस-वे हेतु भूमि की व्यवस्था की कार्यवाही तेजी से आगे बढ़ रही है। उन्होंने कहा कि राज्य में उच्चस्तरीय सड़कों का विकास प्रदेश की अर्थव्यवस्था को नई ऊंचाइयां प्रदान करेगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि उत्तर प्रदेश में राष्ट्रीय राजमार्गों के निर्माण को गति देने के उद्देश्य से वर्तमान राज्य सरकार ने, अपने सीमित वित्तीय संसाधनों के बावजूद, अनेक महत्वपूर्ण निर्णय लिए हैं। इसके तहत राष्ट्रीय राजमार्गों के निर्माण में मिट्टी से राॅयल्टी को समाप्त किया गया है। यूटिलिटी शिफ्टिंग के सुपरविजन चार्जेज़ को 15 प्रतिशत से घटाकर 05 प्रतिशत किया गया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में हाईवे की संख्या और लम्बाई दोनों में तेजी से वृद्धि हो रही है। इसके लिए प्रधानमंत्री एवं केन्द्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री के प्रति आभार व्यक्त करते हुए उन्होंने कहा कि लखनऊ व कानपुर, देश के दो उभरते हुए महानगरों के बीच ग्रीन फील्ड एक्सप्रेस-वे का निर्माण किया जाना है। 


इस निर्माण से लखनऊ से कानपुर की यात्रा आधे से पौन घण्टे के बीच तय की जा सकेगी। दिल्ली-मेरठ के बीच 12 लेन के एक्सप्रेस-वे का कार्य लगभग पूर्ण हो गया है। इससे मेरठ व दिल्ली के बीच की दूरी बहुत कम समय में तय की जा सकेगी। लखनऊ में आउटर रिंग रोड के रूप में किसान पथ का तेजी से निर्माण हो रहा है। यह मार्ग लखनऊ की लाइफ लाइन बनेगा। मुख्यमंत्री ने प्रदेश की राजधानी लखनऊ के विकास के लिए राज्य सरकार की प्रतिबद्धता व्यक्त करते हुए लखनऊ में डी0आर0डी0ओ0 के एक केन्द्र की स्थापना के लिए रक्षा मंत्री के प्रति आभार व्यक्त किया। उन्होंने एक जनपद, एक उत्पाद योजना को प्रोत्साहित करने तथा एम0एस0एम0ई0 उद्यमों के विकास के उद्देश्य से जनपद लखनऊ, आगरा व गोरखपुर हेतु केन्द्रीय एम0एस0एम0ई0 मंत्रालय को प्रेषित प्रस्ताव की मंजूरी के लिए केन्द्रीय एम0एस0एम0ई0 मंत्री नितिन गडकरी के प्रति आभार जताया।

उन्होेंने कहा कि एम0एस0एम0ई0 सेक्टर के माध्यम से बड़ी संख्या में रोजगार सृजन मदद मिलती है। केन्द्र सरकार के सहयोग से अब एम0एस0एम0ई0 उद्यमों को आधुनिक तकनीक के साथ जोड़ा जा सकेगा। साथ ही, एम0एस0एम0ई0 उत्पादों की ब्राण्डिंग व मार्केटिंग आदि में सहायता मिलेगी।कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए केन्द्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि विकास प्रक्रिया में पिछड़ गये राज्यों को प्रधानमंत्री के नेतृत्व में प्राथमिकता दी गयी। ऐसे राज्य अब विकास पथ पर तेजी से आगे आ रहे हैं। मुख्यमंत्री के नेतृत्व में उत्तर प्रदेश तेजी से प्रगति के मार्ग पर अग्रसर है। उन्होंने कहा कि सड़कों के विकास से समृद्धि आती है। उत्तर प्रदेश में राष्ट्रीय राजमार्गाें की लम्बाई में 40 प्रतिशत की वृद्धि हुई है।


केन्द्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री ने कहा कि 21वीं सदी की पाॅलिटिक्स प्रोगे्रस एण्ड डेवलपमेन्ट की है। इसलिए प्रधानमंत्री ने आत्मनिर्भर भारत का लक्ष्य रखा है। प्रधानमंत्री के नेतृत्व एवं मार्गदर्शन में केन्द्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय ने वैश्विक उपलब्धियां हासिल की हैं। वर्तमान में प्रतिदिन 37 किलोमीटर राष्ट्रीय महामार्गाें का निर्माण किया जा रहा है, जो कि एक विश्व रिकाॅर्ड है। फास्टेस्ट रोड कन्सट्रक्शन में देश प्रथम स्थान पर है। उन्होंने अपने मंत्रालय की प्रदेश में निर्माणाधीन सड़क परियोजनाओं की जानकारी दी एवं नये एवाॅर्ड हुए कार्याें के बारे में भी बताया।कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए लखनऊ के सांसद एवं केन्द्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि टेढ़ी पुलिया फ्लाईओवर का निर्माण निर्धारित समय में पूरा किया गया है। 5.5 मीटर ऊंचाई का यह फ्लाईओवर आधुनिकतम तकनीक से बनाया गया है। पुल की ऊंचाई पर्याप्त होने के कारण डबलडेकर बसें आदि भी इससे गुजर सकेंगी।

इस पुल के निर्माण से लखनऊवासियों को यातायात में सुविधा होगी। उन्होंने कहा कि आज  खुर्रम नगर से सेक्टर-25 तक के फ्लाईओवर का शिलान्यास किया गया है। उन्होंने केन्द्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री से इस फ्लाईओवर को कुकरैल फ्लाईओवर से जोड़ने का अनुरोध किया। रक्षा मंत्री ने कहा कि लखनऊ का चतुर्दिक विकास हो रहा है। लखनऊ में रेल, सड़क, हवाई यातायात की सुविधाओं में तेजी से प्रगति हो रही है। उन्होेंने कहा कि लखनऊ में लगभग 5400 करोड़ रुपये की लागत से आउटर रिंग रोड का निर्माण हो रहा है। दिसम्बर, 2021 तक इसे पूर्ण करने का लक्ष्य है। लखनऊ में डी0आर0डी0ओ0 का एक केन्द्र स्थापित हो गया है। इसके लिए भवन निर्माण हेतु भूमि की व्यवस्था की जा रही है। उन्होंने कहा कि आने वाले वर्षाें में लखनऊ देश के टाॅप-03 शहरों में सम्मिलित होगा।


प्रदेश के उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री के नेतृत्व एवं मार्गदर्शन में कोविड-19 की चुनौती के बावजूद राज्य विकास के पथ पर तेजी से अग्रसर है। राज्य में सड़कों का बाधा रहित विकास हो रहा है। यह एक विज़न और दृढ़ इच्छा शक्ति के बल पर सम्भव हो रहा है। कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए उप मुख्यमंत्री डाॅ0 दिनेश शर्मा ने कहा कि मुख्यमंत्री के नेतृत्व में प्रदेश की दशा व दिशा में सकारात्मक परिवर्तन हो रहा है। प्रदेश में केन्द्र व राज्य सरकार का समन्वय अद्वितीय है। प्रदेश सरकार द्वारा सभी केन्द्रीय योजनाओं का प्रभावी क्रियान्वयन किया जा रहा है। इसी क्रम में जनपद लखनऊ का भी चहुंमुखी विकास हो रहा है। लखनऊ में आउटर रिंग रोड सहित विभिन्न पुलों का निर्माण कराया जा रहा है।

Popular posts from this blog

अनेक बातें जो हम समझ नहीं पाते

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

यूपी में पंचायत चुनाव को लेकर राज्य निर्वाचन आयोग ने शुरू की तैयारियां