मुख्य सचिव राजेन्द्र कुमार तिवारी ने मित्र देशों के अधिकारियों से की भेंट

लखनऊ। प्रदेश के मुख्य सचिव राजेन्द्र कुमार तिवारी ने नेशनल डिफेंस एकेडमी के फैकल्टी एवं सीनियर डायरेक्टिंग स्टाफ (नेवी) रियर एडमिरल धिरेन विग. वी.एस.एम. के नेतृत्व में आये वन स्टार/सेना समकक्ष संयुक्त सचिव स्तर के अधिकारियों एवं मित्र देशों के अधिकारियों से भेंट की।
 
यह प्रतिनिधि मण्डल उ0प्र0 राज्य में प्रायोजित सामाजिक एवं आर्थिक संगठनों जैसे ग्राम्य विकास, पंचायती राज, कानून व्यवस्था, महिला सशक्तीकरण, स्वास्थ्य, कृषि शिक्षा एवं ऊर्जा क्षेत्र के विभिन्न गैर सरकारी संगठनों की कार्यप्रणाली के अध्ययन हेतु आया है। 23 सदस्यों के इस प्रतिनिधि मण्डल में भारत सहित अफगानिस्तान, बांग्लादेश, इंडोनेशिया, म्यांमार, श्रीलंका एवं वियतनाम आदि देशों के सैन्य अधिकारी भी शामिल हैं। अपने सम्बोधन में मुख्य सचिव राजेन्द्र कुमार तिवारी ने कहा कि उत्तर प्रदेश में कोविड-19 पर नियंत्रण हेतु योजनाबद्ध तरीके से स्वास्थ्य व चिकित्सा क्षेत्र में सुविधाओं की वृद्धि की गई है।
 
कोविड प्रबंधन की राष्ट्रीय स्तर पर ही नहीं बल्कि अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर प्रशंसा हुई है। डब्ल्यूएचओ द्वारा भी इसकी सराहना की गई है। इसके अतिरिक्त इस आपदा को भी अवसर में बदलने का कार्य किया गया है। महामारी के दौरान अन्य प्रदेशों से वापस आये 40 लाख कामगारों/श्रमिकों की स्किल मैपिंग कराकर उनके गांव में ही रोजगार देने का बड़ा कार्य किया गया है। युवाओं को रोजगार देने के उद्देश्य से युवाओं के लिये मिशन रोजगार चलाया गया। वन डिस्ट्रिक वन प्रोडेक्ट (ओडीओपी) योजना के माध्यम से प्रदेश में 50 लाख से अधिक एमएसएमई यूनिट्स की स्थापना हुई है।
 
 
उन्होंने कहा कि वर्तमान समय में कोविड संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़ना चिन्ता का विषय है। इस पर सरकार गंभीरता से कार्य कर रही है। जो मामले बढ़ें हैं उसका एक कारण यह भी है जब केसेज बहुत कम हो गये थे, तो लोगों ने सावधानी बरतना कम कर दी। कोविड पर नियंत्रण पाने के लिये अपेक्षित व्यवहार को अमल में लाकर कोरोना पर विजय प्राप्त करने में अवश्य सफल होंगे। इस समय कोरोना पर नियंत्रण हेतु बड़ै पैमाने पर कोविड वैक्सीनेशन किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में 21 नई इन्वेस्टमेंट फ्रेंडली नीतियाँ लागू की गई हैं। निवेश मित्र पोर्टल की स्थापना की गयी है, जिसमें 227 सेवाओं को जोड़ा गया है।
 
इसी कारण ‘ईज आॅफ डुईंग बिजनेस’ में उत्तर प्रदेश देश में अब 14वें स्थान से दूसरे स्थान पर आ गया है। प्रदेश के लोगों के जीवन स्तर को ऊपर उठाना प्रदेश सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकताओं में शामिल है। ईज आॅफ लिविंग में सुधार हेतु प्रदेश सरकार निरन्तर कार्य कर रही है। अवस्थापना विकास से ईज आॅफ लिविंग में अत्यधिक सुधार भी आया है। इस अवसर पर मुख्य सचिव को नेशनल डिफेंस काॅलेज का स्मृति चिन्ह भी भेंट किया गया।

Popular posts from this blog

अनेक बातें जो हम समझ नहीं पाते

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

पीसीएस मणि मंजरी राय आत्महत्या मामले में नया खुलासा, ड्राइवर गिरफ्तार