हम सब एक ही ईश्वर की संतान हैं


यह बिलकुल सत्य है कि दूसरों के साथ हम जैसा व्यवहार करते हैं वैसा ही व्यवहार वे हमारे साथ करते हैं हम अकारण रूप से दूसरों के जीवन में बाधक नहीँ बनेंगे तो वे भी हमारे जीवन में बाधक क्यों बनेंगे? यह बड़ी विचित्र बात समाज में देखने को मिल रही है कि हम अपने जीवन से ज्यादा दूसरों के जीवन को देखने में व जानने में व्यस्त हैं।

जब हम सब उस एक ही ईश्वर की संतान हैं और सब अपनी मेंहनत और कर्म करके उन्नति कर रहे हैं तो फिर क्यों हमारे भीतर ईर्ष्या और द्वेष बढ़ता जा रहा है? दूसरों की समृद्धि देख कर जलो नहीँ अपितु उन्हें और आगे बढ़ने के लिए प्रोत्साहित करो।

यदि हमने अपना स्वभाव विनम्र, दयालु, प्रिय सत्यभाषी, परोपकारी और मधुर बना लिया तो बड़ी मात्रा में ना सही तो थोड़े अंश में ही सही दूसरों का व्यवहार भी आपको इसी रूप में प्राप्त होना शुरू हो जायेगा। सदवृत्तियों में बड़ा आकर्षण होता है। लोग आपकी तरफ खिंचे चले आएंगे।

Popular posts from this blog

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

स्वस्थ जीवन मंत्र : चैते गुड़ बैसाखे तेल, जेठ में पंथ आषाढ़ में बेल

एकेटीयू में ऑफलाइन परीक्षा को ऑनलाइन कराए जाने के संबंध में कुलपति को सौंपा गया ज्ञापन