निरंतर वृद्धि के साथ, पिछले 24 घंटों में 3 लाख से अधिक रिकवरी हुई

भारत सरकार ने ‘समग्र सरकार’ दृष्टिकोण के साथ राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों के साथ मिल कर देश में कोविड-19 महामारी की रोकथाम, नियंत्रण तथा प्रबंधन के लिए एक पांच सूत्री रणनीति आरंभ की है। टेस्ट, ट्रैक, ट्रीट तथा कोविड समुचित बर्ताव के साथ टीकाकरण पांच सूत्री रणनीति का एक अंतरंग घटक है।

कोविड-19 टीकाकरण की उदार और त्वरित चरण-3 रणनीति कल (1 मई, 2021) से प्रभावी हुई है। नए पात्र जनसंख्या समूहों के लिए पंजीकरण 28 अप्रैल से आरंभ हुआ।राष्ट्रव्यापी टीकाकरण अभियान का तीसरा चरण आरंभ होने के साथ देश में लगाये गए कोविड 19 के कुल टीकों की संख्या आज 15.68 करोड़ से पार हो गई।

11 राज्यों में 18-44 आयु समूह के 86,023 लाभार्थियों ने कोविड-19 टीके की अपनी पहली खुराक प्राप्त की। ये राज्य हैं-छत्तीसगढ़ (987), दिल्ली (1,472), गुजरात (51,622), जम्मू एवं कश्मीर (201), कर्नाटक (649), महाराष्ट्र (12,525), ओडिशा (97), पंजाब (298), राजस्थान(1853), तमिलनाडु (527) तथा उत्तर प्रदेश (15,792)।

आज सुबह 7 बजे की अनंतिम रिपोर्ट के अनुसार, 22,93,911 सत्रों के जरिये कुल मिलाकर 15,68,16,031 टीके लगाये जा चुके हैं। इनमें 94,28,490 एचसीडब्ल्यू शामिल हैं जिन्होंने पहली खुराक ली है जबकि 62,65,397 एचसीडब्ल्यू ने दूसरी खुराक प्राप्त की है,1,27,57,529 एफएल्डब्ल्यू (पहली खुराक)69,22,093 एफएल्डब्ल्यू (दूसरी खुराक)18-45 आयु समूह के नीचे के 86,023 लाभार्थियों ने पहली खुराक, 60 वर्ष से अधिक आयु के 5,26,18,135 लाभार्थियों ने पहली खुराक तथा 1,14,49,310 लाभार्थियों ने दूसरी खुराक और 45 से 60 वर्ष की आयु के बीच के 5,32,80,976 लाभार्थियों ने पहली खुराक तथा 40,08,078 लाभार्थियों ने दूसरी खुराक प्राप्त की है।

पिछले 24 घंटों में 18 लाख से अधिक टीके लगाये गए। टीकाकरण अभियान के 106वें दिन (1 मई, 2021) को 18,26,219 टीके लगाये गए। 15,968 सत्रों में 11,14,214 लाभार्थियों को पहली खुराक दी गई तथा 7,12,005 लाभार्थियों ने अपनी दूसरी खुराक प्राप्त की। भारत की कुल रिकवरी आज 1,59,92,271 तक पहुंच चुकी है। राष्ट्रीय रिकवरी दर 81.77 प्रतिशत है। पिछले 24 घंटों में 3,07,865 रिकवरी दर्ज की गई।

Popular posts from this blog

स्वस्थ जीवन मंत्र : चैते गुड़ बैसाखे तेल, जेठ में पंथ आषाढ़ में बेल

त्वमेव माता च पिता त्वमेव,त्वमेव बन्धुश्च सखा त्वमेव!

राष्ट्रीयता और नागरिकता में अंतर