मुख्यमंत्री के निर्देश पर प्रदेश में आक्सीजन की सप्लाई और बढ़ाई गयी

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर प्रदेश में आक्सीजन की बढ़ी हुई मांग को पूरा करने के लिये व्यापक स्तर पर कार्यवाही करते हुए आक्सीजन की सप्लाई बढ़ाई गयी है। बीते 24 घंटे में रिकार्ड 783.31 मीट्रिक टन आक्सीजन की आपूर्ति प्रदेश भर मे की गयी है। 
 
मुख्यमंत्री द्वारा समस्या के स्थायी समाधान हेतु 300 नए आक्सीजन प्लांट भी लगाये जाने के निर्देश दिये गये हैं। राज्य सरकार द्वारा आक्सीजन उत्पादन करने वाली इकाइयों को प्रोत्साहन दिया जा रहा है तथा इसके लिये एक नीति बनायी गयी है। अपर मुख्य सचिव, गृह अवनीश कुमार अवस्थी ने बीते चैबीस घंटे में प्रदेश भर में हुई आक्सीजन की सप्लाई का विस्तृत विवरण देते हुए बताया कि 350.12 मीट्रिक टन आॅक्सीजन की आपूर्ति रिफीलर्स को खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन विभाग द्वारा की गयी है। साथ ही शासन के प्रयासो के फलस्वरूप 309 मीट्रिक टन आक्सीजन की सप्लाई प्रदेश के मेडिकल कालेजांे व चिकित्सा संस्थानो को तथा 124.19 मीट्रिक टन आक्सीजन की आपूर्ति आॅक्सीजन सप्लायर्स द्वारा सीधे निजी चिकित्सालयों को की गई है।
 
इस प्रकार कुल 783 मीट्रिक टन से अधिक आॅक्सीजन की सप्लाई बीते 24 घंटे में प्रदेश भर के सरकारी व निजी अस्पतालों में की गयी है। अवस्थी ने बताया कि प्रदेश की राजधानी लखनऊ में कोविड उपचार हेतु डी0आर0डी0ओ0 द्वारा बनाये गये कोविड अस्पताल के लिए प्रतिदिन 10 मीट्रिक टन आॅक्सीजन का आवंटन निर्धारित किया गया है। उन्होने बताया कि अभी केवल परीक्षण कार्य हेतु आवश्यक आॅक्सीजन ही उपलब्ध करायी गयी है तथा जैसे ही यह कोविड अस्पताल कार्य प्रारम्भ कर देगा, इसे निर्धारित 10 मीट्रिक टन की आपूर्ति समय से सुनिश्चित करा दी जायेगी। अपर मुख्य सचिव, गृह, ने बताया कि जिलेवार उपलब्ध आॅक्सीजन उत्पादन प्लांटस एवं उनकी क्षमता की लगातार समीक्षा की जा रही है। शासन द्वारा प्रदेश में आॅक्सीजन की मांग का भी जनपदवार विवरण तैयार किया गया है।
 
भारत सरकार द्वारा प्रदेश को आवंटित आॅक्सीजन कोटा को देखते हुए उसके अधिकतम उठान के प्रयास निरन्तर जारी है। उ0प्र0 में क्रायोजेनिक टैंकर की उपलब्धता के अनुसार अधिकतम आॅक्सीजन लाने के हर संभव प्रयास किये जा रहे है जिसके लिये रेलवे द्वारा चलाई गई आॅक्सीजन एक्सप्रेस की मदद ली गयी है। उन्होंने बताया कि प्रदेश में रिफलिंग यूनिटस की जिलेवार संख्या, क्षमता आदि का विवरण भी तैयार किया गया है। खाली टैकर्स के आक्सीजन रिफिलिंग प्लान्ट्स तक पहुंचने में समय की बचत हेतु हवाई मार्ग का सहारा लिया गया है। उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री के निर्देश पर प्रदेश में आॅक्सीजन की मांग को तत्परता से पूरा करने के उद्देश्य से गृह विभाग में बने एक विशेष कन्ट्रोल रूम के माध्यम से आॅक्सीजन आपूर्ति व्यवस्था की आॅनलाइन मानीटरिंग की जा रही है। इस कन्ट्रोल रूम में गृह विभाग, खाद्य एवं औषधि प्रशासन, चिकित्सा शिक्षा, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण तथा परिवहन विभाग के वरिष्ठ अधिकारी व कर्मचारी लगातार 24 घंटे परस्पर समन्वय बनाकर कार्य कर रहे है।
 
यह भी उल्लेखनीय है कि रेलवे मार्ग से आॅक्सीजन लाने वाला भी यूपी पहला राज्य है। उत्तर प्रदेश में आॅक्सीजन की कमी को पूरा करने के लिये अन्य राज्यों यथा बिहार, उड़ीसा, बंगाल, झारखण्ड में स्थित आॅक्सीजन प्लान्ट से आॅक्सीजन प्रदेश में लाये जाने की व्यवस्था की गयी है जिसकी पूरी आॅन लाइन मानीटरिंग भी की जा रही है। उ0प्र0 की सीमा से अन्य राज्यों के द्वारा होकर आने वाले टैंकर को ग्रीन कारीडोर बनाकर उन्हे निर्धारित स्थान तक शीघ्र पहॅुचाने की व्यवस्था भी की गई हैं। आॅक्सीजन के युक्तिसंगत/तर्कसंगत उपयोग हेतु आॅक्सीजन आडिट की व्यवस्था की गयी है ताकि उसकी बचत कर उसका सदुपयोग किया जा सके। इसके लिये आई आई टी कानपुर द्वारा साफ्टवेयर विकसित किया गया है। इस कार्य में आईआईएम लखनऊ, आईआईटी कानपुर व आईआईटी बीएचयू वाराणसी एकेटीयू, लखनऊ, एमएमटी0यू0 गोरखपुर, एचबीटीयू कानपुर, एनएनआईटी, प्रयागराज एवं एसजीपीजीआई द्वारा प्रदेश भर में आॅक्सीजन के आडिट कार्य में सहयोग लिया गया है।

Popular posts from this blog

अनेक बातें जो हम समझ नहीं पाते

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

पीसीएस मणि मंजरी राय आत्महत्या मामले में नया खुलासा, ड्राइवर गिरफ्तार