'टी प्वाइंट’ की तर्ज पर बना ‘आक्सीजन प्वाइंट’


जौनपुर। जिस तरह टी प्वाइंट पर आसानी से चाय मिल जाती है, ठीक उसी तरह जौनपुर के एक परिसर में आक्सीजन प्वाइंट तैयार किये गये है ताकि आक्सीजन के लिये मरीज के तीमारदारों को मश्क्कत न करना पड़े। इन आक्सीजन प्वाइंट पर उतनी ही आसानी से आक्सीजन मिल जाती है जैसे सड़क के नुक्कड़ पर चाय।

महामारी के इस दौर में जब आक्सजीन को पाने के लिये मश्क्कत करनी पड़ रही है वही जौनपुर के कृष्णा हार्ट केयर  के निदेशक डॉक्टर हरेंद्र देव सिंह ने अपने हॉस्पिटल में मुफ्त ऑक्सीजन पॉइंट की शुरुआत की है । ऑक्सीज़न के लिए दर दर भटक रहे लोगो को राहत देते हुए अपने हॉस्पिटल के हाल में दर्जनों ऑक्सीज़न पॉइंट बनवाये है । जिसके जरिये अब ज़िले के लोगो को काफी राहत मिली है , तत्काल ऑक्सीज़न मिल जाने के बाद मरीज के तीमारदारों को दो तीन घंटो की राहत मिल जाती है इस दरम्यान मरीज़ के परिजन किसी कोविड हॉस्पिटल में बेड की व्यवस्था कर लेते है । जिससे जौनपुर में कोरोना से मृत्यु दर कम हुई है । डॉक्टर हरेंद्र की इस पहल से ऑक्सीजन के लिए परेशान मरीजों ने राहत की सांस ली है।

रमेश की मां की तबीयत अत्यंत बिगड़ गयी थी उनकी मां को आक्सीजन की अत्यंत आवश्यकता थी लेकिन उनका सिलेंडर कहीं भी रिफिल नहीं हो पा रहा था।जब उन्हें डा. हरेंद्र देव सिंह के इस आक्सीजन प्वाइंट के बारे में पता चला तो वो वहां पुहंच गये और उन्हें आसानी से आक्सीजन मिल गयी जिसके लिये उन्हें पैसा भी नहीं खर्च करना पड़ा। डाक्टर हरेंद्र देव सिंह ने बताया कि आक्सीजन प्वाइंटस पर भरपूर मात्रा में आक्सीजन है ।एस लोग जो होम आइसोलेशन में है और उन्हें आक्सीजन की आवश्यकता है वो भी यहां से आक्सीजन लेकर जाते है।आक्सीजन गैस के साथ-साथ लोगों को फ्री में मास्क भी दिया जात है।डा. हरेंद्र देव की तर्ज पर अन्य अस्पताल भी अब आक्सीजन प्वाइंटस बनाने पर विचार कर रहे है।

इतना ही नहीं अस्पताल के व्हाट्सअप नं. पर भी संपर्क कर लोग आक्सीजन प्वाइंटस पर अप्वाइंनमेंट ले सकते है।अगर कोई भी सिलेंडर के लिये संपर्क करता है तो हमारे द्वारा आधार कार्ड,फोटो और मरीज की डाक्टर की पर्ची मांगी जाती है।फिर उसके आक्सीजन लेवर के हिसाब से आक्सीजन प्वाइंट पर से आक्सीजन लेने की अनुमति दे दी जाती है।डा. हरेंद्र देव सिंह ने बताया कि यह सेवा निरंतर चलती रहेगी। शहर के सोशल मीडिया पर इस आक्सीजन प्वाइंट की चर्चा जोरों पर है।मरीजों के तीमारदार डा. हरेंद्र देव सिंह के इस प्रयास की काफी सराहना कर रहे है।इतना ही नहीं जिले के सरकारी अस्पताल में आक्सीजन प्लांट चालू हो गया है।इस प्लांट से प्रतिदिन लगभग 25 सौ लीटर ऑक्सीजन तैयार हो रही है। ऑक्सीजन प्लांट चालू होने से कोरोना संक्रमण से जूझ रहे मरीजों को काफी राहत मिलेगी। कोविड मरीजों के लिए यह राहत भरी खबर है।

Popular posts from this blog

अनेक बातें जो हम समझ नहीं पाते

पीसीएस मणि मंजरी राय आत्महत्या मामले में नया खुलासा, ड्राइवर गिरफ्तार

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न