पुरुषार्थ से सफलता के द्वार निश्चित रूप से खुल जाते हैं

 
पुरूषार्थ से असंभव भी संभव हो जाता है ये बात जितनी सत्य है कि पुरुषार्थ से सफलता के द्वार निश्चित रूप से खुलते हैं। ये बात भी उतनी ही सत्य कि पुरूषार्थ और सफलता के बीच सदैव अनेक तरह के विघ्न और बाधाएं भी अवश्यमेव उपस्थित हो जाती हैं। जीवन में विघ्न और बाधाएं कठोर से कठोर संकल्प को भी छिन्न-भिन्न करके रख देती हैं।
 
इस स्थिति में सबसे ज्यादा जिस बात की आवश्यकता होती है, वो है, धैर्य। धैर्य आशा की वो किरण है, जो हमें प्रतिकूल से भी प्रतिकूल परिस्थिति में निरंतरता बनाये रखना सिखाती है। इसलिए जीवन में मनोनुकूल परिणामों के लिए पुरुषार्थ जितना जरूरी है, साथ ही साथ धैर्य भी उतना ही आवश्यक। उद्देश्य पवित्र हो, पुरुषार्थ पूर्ण हो और धैर्य असीम हो तो कोई भी कार्य असंभव नहीं है।

Popular posts from this blog

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

स्वस्थ जीवन मंत्र : चैते गुड़ बैसाखे तेल, जेठ में पंथ आषाढ़ में बेल

एकेटीयू में ऑफलाइन परीक्षा को ऑनलाइन कराए जाने के संबंध में कुलपति को सौंपा गया ज्ञापन