महामारी के इस दौर में मानवता की जीती जागती एक मिशाल

मुरादाबाद करोना महामारी के इस दौर में जहां एक ओऱ बहुत से लोग आक्सीजन औऱ ज़रुरी दवाईय़ों की कालाबाजारी में लगे है वहीं कुछ लोग एसे भी है जो निस्वार्थ भाव से मानवता की सेवा करके स्वयं को धन्य कर रहे है।मुरादाबाद में खालसा सेवा दल इसका एक जीता जागता उदाहरण है।सिख समुदाय द्वारा संचालिय यह सेवादल हर ज़रुरतमंद को निशुल्क रुप से चिकित्सा आक्सीजन की आपूर्ति कर रहा है।

इतना ही नहीं सेवा दल के द्वारा 10 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर भी मंगाए है। जो कोरोना मरीजों को उपचार के लिए निशुल्क दिए जा रहे है ,साथ ही मरीज को ऑक्सीजन कंसंट्रेटर इस्तेमाल में कोई समस्या न आये इसका प्रशिक्षण भी दे रहे है। आपदा की घड़ी में ज्यादा से ज्यादा जरूरतमंद लोगो तक उनकी सेवा पहुँच सके। इसको लेकर इन्होंने मुरादाबाद के सैकड़ो व्हाट्सएप और फेसबुक ग्रुप पर अपने मोबाइल नम्बर वायरल कर सेवा का अबसर प्रदान करने की अपील की है। बही मोबाइल नम्बर के वायरल होने के बाद जरूरत मंद लोग 24 घंटे फोन कर सेवा का लाभ उठा रहे है और सिखो के द्वारा दी जाने वाली सेवा के लिए शुक्रिया अदा कर रहे है।


शहर के ही रहने वाले मोहम्मद अजीज ने बताया कि उनके परिवार में एक सदस्य को संक्रमण हो गया था जिसके लिये उन्हें आक्सीजन की ज़रुरत थी।जब उन्हें पता चला कि खालसा सेवा दल आक्सजीन के सिलेंडर दे रहा है तो उन्होंने सेवादार भाई इन्द्रपाल सिंह से सम्पर्क किया ।भाई इन्द्रपाल सिंह ने मोहम्मद अजीज को गुरुद्वारे बुलाया और उनकी मदद की।मोहम्मद अजीज अकेले नहीं है इनके जैसे बहुत से लोग है जो सिख समुदाय द्वारा की जा रही सेवा का फायदा उठा रहे है।हमने खालसा सेवा दल के मुखिया भाई तेजिन्द्र सिंह से बातचीत की उन्होंने बताया कि इंसानियत की सेवा करना सिख धर्म में काफी महत्वपूर्ण माना गया है।

उन्होंने कहा कि हम लोग आपस में सहयोग करके आक्सीजन जैसी ज़रुरी चीजे इकट्ठा करते है औऱ हर ज़रुरतमंद की सेवा करने की कोशिश करते है।उन्होंने कहा कि गुरुनानक देव जी महाराज ने सभी के भलाई के लिये प्रार्थना की थी ।आज भी सिख समुदाय के लोग इंसानियत की भलाई के लिये काम कर रहे है।सेवादाव भाई नवजीत सिंह ने कहा कि सिखो के यहां गुरुद्वारा साहिब में दरवाजे नहीं होते। इसका मतलब ये है कोई भी ज़रुरतमंद कभी भी गुरुद्वारा साहिब में आकर शऱण ले सकता है।जो भी हो खालसा सेवादल के इस प्रयास की जिले के चारों ओर प्रशंसा हो रही है।

Popular posts from this blog

स्वस्थ जीवन मंत्र : चैते गुड़ बैसाखे तेल, जेठ में पंथ आषाढ़ में बेल

त्वमेव माता च पिता त्वमेव,त्वमेव बन्धुश्च सखा त्वमेव!

या देवी सर्वभू‍तेषु माँ गौरी रूपेण संस्थिता।  नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।।