जो करना चाहिए था, उसको सर्वथा भूला दिया



इस संसार में मनुष्य के सुख-दु:ख, उत्थान-पतन का प्रतिफल तो अनंत काल तक आत्मा के सामने ही आने वाला है।

इसलिए शरीर मोह की सीमा होनी चाहिए उसकी पूर्ति में इतना न उलझ जाना चाहिए कि आत्मिक स्वार्थों की पूर्ण उपेक्षा होने लगे। 

उसके लिए फुरसत न मिलने आर्थिक तंगी का बहाना करके मन बहलाया जा सकता है, पर जब शरीर वृद्ध, रुग्ण अथवा मृत्यु के निकट होता है, तब भूल समझ में आती है और सूझता है कि इस तुच्छ शरीर के मनोरंजन में बहुमूल्य मानव जीवन चला गया और जो करना चाहिए था, उसको सर्वथा भूला दिया गया है।

Popular posts from this blog

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

स्वस्थ जीवन मंत्र : चैते गुड़ बैसाखे तेल, जेठ में पंथ आषाढ़ में बेल

एकेटीयू में ऑफलाइन परीक्षा को ऑनलाइन कराए जाने के संबंध में कुलपति को सौंपा गया ज्ञापन