जनता ने वोट की ताकत से भाजपा को पंचायत चुनाव में दिया जबाब, उल्टी गिनती शुरू- संजय सिंह


लखनऊ। पंचायत चुनाव में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और सत्ताधारी भाजपा को जन विरोधी नीतियों का जवाब जनता ने अपने वोट से देकर यह बता दिया है कि योगी और उनकी सरकार की उल्टी गिनती शुरू हो चुकी है। भाजपा समर्थित बहुत से कद्दावर नेताओं को जिला पंचायत सदस्य चुनाव में हार मिली है। सुखद बात यह है कि केजरीवाल के विकास मॉडल को यूपी की जनता ने स्वीकारते हुए आम आदमी पार्टी को भरपूर प्यार दिया है। ये बातें आम आदमी पार्टी के यूपी प्रभारी राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने मंगलवार को कहीं।
 
संजय सिंह ने कहा कि मुख्यमंत्री के गृह जनपद गोरखपुर में आम आदमी पार्टी समर्थित प्रत्याशी को करीब साढ़े आठ हजार वोटों से जिताकर यह जता दिया है कि आने वाले विधानसभा चुनाव में उनका किला ढहने वाला है। रामनगरी अयोध्या में भी भाजपाइयों को मुंह की खानी पड़ी है। पंचायत चुनाव परिणाम के साथ पूरे प्रदेश में परिवर्तन की बयार बह चुकी है। इस चुनाव में आम आदमी पार्टी केजरीवाल की नीतियों को लेकर जनता के बीच पहुंची तो उसे भरपूर प्यार मिला। आज गांव गांव तक केजरीवाल सरकार के 200 यूनिट मुफ्त बिजली, फ्री पानी, गुणवत्तापूर्ण मुफ्त शिक्षा एवं इलाज की व्यवस्था पर बात हो रही है। लोग यूपी में अब विकास का दिल्ली मॉडल लागू करना चाहते हैं, पंचायत चुनाव परिणाम ने इस बात पर मुहर लगा दी है।
 
योगी सरकार के भ्रष्टाचार और अत्याचार से त्रस्त प्रदेश की जनता ने विधानसभा चुनाव का मॉक ड्रिल माने जा रहे जिला पंचायत चुनाव में भाजपा के खिलाफ वोट करके उसे आईना दिखाने का काम किया है। नतीजे बता रहे हैं कि प्रदेश के अधिकांश जिलों की सरकार भाजपा की नहीं होगी। पार्टी के कार्यकर्ता इस परिणाम से उत्साहित होकर केजरीवाल की नीतियों को जन जन तक पहुंचाएं जिससे कि आने वाले विधानसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी प्रदेश में सकारात्मक राजनीति की नई इबारत लिख सके। संजय सिंह ने पंचायत चुनाव ड्यूटी के दौरान संक्रमित होकर दम तोड़ने वाले शिक्षक एवं अन्य कर्मियों को श्रद्धांजलि देते हुए सरकार पर गांव गांव में कोरोना फैलाने का आरोप लगाया। कहा कि सरकार ने इन कर्मचारियों को जान जोखिम में डालकर ड्यूटी करने को मजबूर किया जिसकी कीमत उन्हें अपनी जान देकर चुकानी पड़ी।
 
उनके परिवार के लोग भी संक्रमण की जद में हैं। आज योगी सरकार के कुप्रबंधन के चलते प्रदेश के लगभग हर गांव में कोरोना पहुंच चुका है। महामारी अब गांव में भी बड़ी संख्या में लोगों की जानें लेने लगी है। हालत इतनी खराब है कि केंद्र सरकार को महामारी पर अंकुश लगाने के लिए हस्तक्षेप करना चाहिए। कोरोना जांच रिपोर्ट आने में सप्ताह भर या उससे ज्यादा समय लग जा रहा है। ग्रामीण इलाकों में और ऑक्सीजन की किल्लत के साथ-साथ जरूरी जीवन रक्षक दवाओं की भी कमी लोगों को परेशान किए हुए है।

Popular posts from this blog

अनेक बातें जो हम समझ नहीं पाते

पीसीएस मणि मंजरी राय आत्महत्या मामले में नया खुलासा, ड्राइवर गिरफ्तार

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न