योगी राज में कूड़े की गाड़ी और ठेले से नदियों में फेंके जा रहे शव- संजय सिंह

लखनऊ। गंगा किनारे लाशों के अंबार पर योगी सरकार के खिलाफ हमलावर आम आदमी पार्टी की उत्तर प्रदेश प्रभारी राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने बुधवार को एक बार फिर यूपी में शवों की बेकद्री का मुद्दा उठाया। संजय सिंह ने कहा कि योगी राज में कूड़े की गाड़ी और ठेले से शव ढोए जा रहे हैं। कोरोना से मरने वालों की अधजली लाशें कुत्ते नोच रहे हैं।
 
संजय सिंह ने कहा, योगी सरकार में इंसान को इलाज नहीं मिल रहा और न ही मरने वाले का उसके धार्मिक रीति रिवाज के अनुसार अंतिम संस्कार हो पा रहा है। उन्होंने कहा कि जनपद शामली के जलालाबाद में एक महिला की मौत के बाद किसी भी कीमत पर एंबुलेंस न मिल पाने के बाद परिजनों को कूड़े की गाड़ी से शव को श्मशान घाट तक लेकर जाना पड़ा। मुख्यमंत्री के गृह जनपद गोरखपुर के बड़हलगंज कस्बे में कोरोना संक्रमित का निधन हो जाने पर उसे एंबुलेंस नहीं मिली मजबूरन उनके भी परिजनों ने ठेले से शव को श्मशान घाट पहुंचाया। ऐसे कई प्रमाण योगी के सड़े सिस्टम की लगातार पोल खोल रहे है और प्रदेश के सैकड़ों ऐसे श्मशान घाट हैं जहां दिल दहलाने वाला माहौल है।
 
एक लाश सही से जल नहीं पाती कि दूसरी पहुंच जा रही है और जल्दबाजी में कई लाशें अधजली ही रह जाती हैं, जिन्हें कुत्ते नोचने लगते हैं। यह बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है। योगी सरकार रोज अखबारों के माध्यम से प्रदेश की हालत सब कुछ अच्छा होने की बात कह रही है, जबकि वास्तविकता बिल्कुल अलग है। प्रदेश में चारों तरफ हाहाकार मचा हुआ। सड़कें, गलियां सूनी हो गई हैं भय से लोग घरों में कैद है रेहड़ी, पटरी मजदूरी करने वाले लोगों के सामने बच्चों के भरण पोषण की समस्या आ रही है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ हालात ठीक करने के बजाए फर्जी बयानबाजी कर रहे हैं और अपनी वाहवाही लूटने का काम कर रहे है।
 
वैक्सीन लगवाने के लिए ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन की बाध्यता पर सवाल उठाते हुए आम आदमी पार्टी के यूपी प्रभारी एवं राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने कहा की योगी सरकार जवाब दें कि जो लोग ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन नहीं कर सकते उनका वैक्सीनेशन कैसे होगा किसके पास जाएं प्रदेश की 80% आबादी ग्रामीण इलाकों में रहती है ग्रामीण इलाकों में लोगों के पास न स्मार्टफोन है, न डाटा है, न गांव में कोई साइबर कैफ़े है इन सब के अभाव में प्रदेश की एक बड़ी आबादी का ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन नहीं हो सकता है सबको वैक्सीन मिले सके सरकार को ऐसा इंतजाम करना चाहिए।

संजय सिंह ने कहा कि पंचायत चुनाव में ड्यूटी में कोरोना के मारे गए शिक्षक, शिक्षामित्र, शिक्षा अनुदेशक और कर्मचारियों के परिजनों को एक करोड़ रुपए के मुआवजे की मांग आम आदमी पार्टी योगी सरकार से कई बार कर चुकी हैं, बुधवार को इस मांग पर इलाहाबाद हाई कोर्ट ने भी योगी सरकार को लताड़ लगाते हुए कर्मचारियों के परिजनों को एक करोड़ रुपए की देने की बात कही है संजय सिंह ने कहा पंचायत चुनाव में कोविड गाइडलाइन का पालन नहीं किया गया योगी सरकार की जिद ने जबरन 02 हजार से शिक्षकों, कर्मचारियों की जान ली है उनके परिवारों को तबाह करने का काम किया है प्रदेश की जनता भाजपा को कभी माफ नहीं करेगी। उन्होंने एक बार पुनः मांग की है कि मृतक शिक्षक, कर्मचारियों के परिजन को एक करोड़ रुपया और नौकरी दी जाए।

Popular posts from this blog

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

स्वस्थ जीवन मंत्र : चैते गुड़ बैसाखे तेल, जेठ में पंथ आषाढ़ में बेल

एकेटीयू में ऑफलाइन परीक्षा को ऑनलाइन कराए जाने के संबंध में कुलपति को सौंपा गया ज्ञापन