गंगा किनारे रेत में दबी लाशों का विधिवत अंतिम संस्कार करे सरकार- आप

प्रयागराज। आम आदमी पार्टी के प्रदेश महासचिव दिनेश सिंह पटेल ने आज गंगा किनारे रेत में दबी लाशों का विधिवत अंतिम संस्कार करने के लिए जिला प्रशासन के माध्यम से सरकार को ज्ञापन सौंपा। उन्होंने मांग की है कि कोरोना काल में प्रयागराज समेत पूरे उत्तर प्रदेश में नदियों के किनारे घाटों पर खुलेआम शव पड़े है सरकार को उनका अंतिम संस्कार करना चाहिए।

दिनेश सिंह पटेल ने कहा कि एक तरफ उत्तर प्रदेश सरकार कोरोना मृतकों के मुफ्त अंतिम संस्कार का दावा कर रही है तो वहीं गंगा के किनारे रेत में दबी और पानी में बहती और सड़ती हुई लाशें उत्तर प्रदेश सरकार के झूठ को बेपर्दा कर रही हैं। उन्होंने कहाकि यूपी की बीजेपी सरकार की कुव्यवस्था, लापरवाही और नाकामियों के कारण कोरोना से दम तोड़ रहे लोगों को मरने के बाद भी विधिवत अंतिम संस्कार तक नसीब नहीं हो रहा। पूरे प्रदेश में नदियों के किनारे घाटों पर मृतकों के शवों को चील-कौवे और कुत्ते नोच रहे हैं जो हृदयविदारक और अमानवीय तो है ही, सरकार की संवेदनहीनता को भी बयां करता है। 

दिनेश पटेल ने कहाकि कोरोना काल की कठिन परिस्थितियों में यूपी में पहले तो लोगों को समय पर इलाज नहीं मिल पाता और जब वे इलाज के अभाव में मर जाते हैं तब सम्मानजनक रूप से उनका अंतिम संस्कार भी नहीं हो पाता। प्रशासन की बड़ी लापरवाही ये भी है कि जब इन लाशों को दफनाया जा रहा था तब स्थानीय प्रशासन क्या कर रहा था इसका उत्तर जनता जानना चाहती है। 'आप' का कहना है कि यूपी में प्रयागराज समेत 27 जिलों से होकर गंगा नदी बहती है इनमें से कन्नौज, कानपुर, उन्नाव, गाजीपुर व बलिया आदि में गंगा किनारे हजारों की संख्या में लाशों को दफनाया गया है। दफनाई गयीं लाशों की स्थिति भयावह है। कुत्ते लाशों को नोच रहे हैं। इनसे आने वाले समय में एक और महामारी का खतरा हो सकता है।
 
इसीलिये हमने प्रयागराज में स्थानीय प्रशासन के जरिये उत्तर प्रदेश सरकार से मांग की है कि अतिशीघ्र इन शवों के विधिवत अंतिम संस्कार की व्यवस्था करे। ज्ञापन के दौरान प्रदेश सचिव अंजनी कुमार मिश्रा, जिला प्रभारी विवेक सिंह, जिला महासचिव सर्वेश यादव,नगर अध्यक्ष संजीव मिश्र, चक्रधारी तिवारी, अनंत कुमार आदि सदस्य उपस्थित रहें

Popular posts from this blog

स्वस्थ जीवन मंत्र : चैते गुड़ बैसाखे तेल, जेठ में पंथ आषाढ़ में बेल

त्वमेव माता च पिता त्वमेव,त्वमेव बन्धुश्च सखा त्वमेव!

राष्ट्रीयता और नागरिकता में अंतर