कोविड-19 प्रबंधन के लिए मुख्यमंत्री योगी ने जारी किये आवश्यक दिशा-निर्देश

लखनऊ। प्रदेश में कोविड वैक्सीनेशन का कार्य सुचारू रूप से चल रहा है। जून माह के लिए हमने 01 करोड़ वैक्सीन का लक्ष्य रखा था और 23 जून तक 97 लाख लोगों को टीका-कवर दिया जा चुका है। 21 से 30 जून तक हर दिन न्यूनतम 06 लाख वैक्सीन लगाने का लक्ष्य भी पूरा हो रहा है। विगत दिवस भी 07 लाख 84 हजार लोगों का टीकाकरण किया गया, इसमें 5 लाख 27 हजार केवल 18-44 आयु वर्ग के लोग थे।

अब तक प्रदेश में 02 करोड़ 80 लाख से अधिक वैक्सीन डोज लगाई जा चुकी है। 41 लाख 42 हजार से अधिक लोग टीके के दोनों डोज प्राप्त कर चुके हैं। 01 जुलाई से हर दिन न्यूनतम 10 लाख लोगों को टीका-कवर प्रदान करने के लक्ष्य के लिए सभी तैयारियां पूरी कर ली जाएं। 25 करोड़ की आबादी वाले प्रदेश में महामारी पर नियंत्रण, बेहतर टीमवर्क का परिणाम है। लगातार नियोजित कोशिशों से अब ज्यादातर जिलों में संक्रमण के नए मामले नहीं मिल रहे, तो कई जिलों में नए केस इकाई में आ रहे हैं। बीते 24 घंटे में विगत 24 घंटे में 02 लाख 71 हजार से अधिक सैम्पल टेस्ट हुए और 20 जिलों में एक भी संक्रमित मरीज नहीं मिला, जबकि 49 जिलों में इकाई अंक में संक्रमित पाए गए। 06 जिले में दो अंकों में कोरोना मरीज पाए गए। प्रदेश की टेस्ट पॉजिटिविटी दर लगातार एक फीसदी से कम बनी हुई है। विगत दिवस पॉजिटिविटी दर 0.08 फीसदी रही। 

विगत 24 घंटे में 229 नए केस आए और 308 लोग स्वस्थ होकर डिस्चार्ज हुए। वर्तमान में प्रदेश में कुल 3,552 संक्रमित मरीजों का इलाज हो रहा है। जबकि, 2149 लोग होम आइसोलेशन में उपचाराधीन हैं। प्रदेश में कोविड रिकवरी दर 98.5 फीसदी हो गई है। अब तक 05 करोड़ 62 लाख 71 हजार 231 कोविड टेस्ट हो चुके हैं और उपचारित होकर स्वस्थ होने वालों को संख्या 16 लाख 79 हजार से अधिक हो गई है। देश के कई राज्यों में कोविड का नया वैरिएंट "डेल्टा प्लस" संक्रमण के मरीज सामने आए हैं। हमें विशेष सतर्कता बरतनी होगी। राज्य स्तरीय स्वास्थ्य विशेषज्ञ परामर्शदाता समिति से संवाद करते हुए आवश्यक रणनीति तय की जाए।

उत्तर प्रदेश की सीमा से लगे प्रदेश में डेल्टा प्लस वैरिएंट की पुष्टि को देखते हुए निकटस्थ जिलों से सैम्पल लेकर जीनोम सिक्वेंसिंग कराई जानी चाहिए। जीनोम सिक्वेंसिंग के लिए केजीएमयू, लखनऊ में आवश्यक सुविधाएं यथाशीघ्र मुहैया कराई जाए। कोविड की तीसरी लहर की आशंका देखते हुए सभी जरूरी प्रयास यथाशीघ्र पूरी की जाए। पीकू/नीकू की स्थापना की कार्यवाही तेज हो। बाइपैक मशीन, पीडियाट्रिक आईसीयू, मोबाइल एक्सरे मशीन सहित सभी जरूरी उपकरणों की उपलब्धता सुनिश्चित कराई जाए। इनके निर्माता कम्पनियों से सीधे संवाद होना चाहिए। डॉक्टरों और नर्सिंग स्टाफ के पहले चरण का कार्य पूरा हो चुका है।
 
इनके माध्यम से अन्य स्वास्थ्यकर्मियों को प्रशिक्षित किया जाए। पीडियाट्रिक विशेषज्ञ हो, नर्सिंग स्टाफ हो अथवा तकनीशियनों की जरूरत, जिलावार स्थिति का आकलन करते हुए पर्याप्त मानव संसाधन की व्यवस्था कराएं। स्वास्थ्य विशेषज्ञों के परामर्श के अनुसार सभी जरूरी उपयोगी दवाओं की खरीद कर ली जाए। अगले एक पखवारे के भीतर यह सभी कार्य पूरे कर लिए जाएं। बेसिक शिक्षा विभाग में जारी 69,000 शिक्षक पदों में से रिक्त पदों पर नियुक्ति के लिए काउंसिलिंग प्रक्रिया को सुचारु ढंग से पूरा कराएं। काउंसिलिंग शेड्यूल जारी किया जा चुका है। कोविड प्रोटोकॉल का पालन करते हुए अभ्यर्थियों की सुविधा का ध्यान रखा जाए।

Popular posts from this blog

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

अनेक बातें जो हम समझ नहीं पाते

एकेटीयू में ऑफलाइन परीक्षा को ऑनलाइन कराए जाने के संबंध में कुलपति को सौंपा गया ज्ञापन