गाँवों में कोरोना संक्रमण को रोंककर ही प्रदेश को बचाया जा सकता है- काका

सुलतानपुर। ‘काका’ के नाम से मशहूर सामाजिक कार्यकर्ता धीरेन्द्र कुमार पाण्डेय कोरोना महामारी के दौरान अपनी टीम के साथ लोगों की मदद में खड़े रहे, लेकिन ग्रामीण क्षेत्रों में बढ़ते कोरोना के मामलों से उनमें काफी निराशा है।

उन्होंने मीडिया से बात करते हुए कहा कि कोरोना के बढ़ते मामलों को नियंत्रित करने के लिए स्वास्थ्य विभाग के साथ ग्राम-पंचायतों को मिलकर कार्य करने की रणनीति बननी चाहिए जिसमें आशा बहुओं के माध्यम से घर-घर जाकर यह जानकारी एकत्र करानी चाहिए कि कितने लोग गाँव में वैक्सीन लगवाने से वंचित रह गए हैं, गाँवों को बचाने से ही प्रदेश सुरक्षित हो पायेगा और लोगों के जीवन को प्रभावित होने से रोंका जा सकेगा, इस कार्य में उन्होंने आवश्यकता पड़ने पर अपनी टीम के साथ सहयोग करने की भी इच्छा जाहिर की।

Popular posts from this blog

स्वस्थ जीवन मंत्र : चैते गुड़ बैसाखे तेल, जेठ में पंथ आषाढ़ में बेल

त्वमेव माता च पिता त्वमेव,त्वमेव बन्धुश्च सखा त्वमेव!

राष्ट्रीयता और नागरिकता में अंतर