शहर की सिटी बसों में महिलाओं की सुरक्षा हेतु जीपीएस, सीसीटीवी एवं पैनिक बटन की होगी व्यवस्था


लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देशों के अनुपालन के क्रम महिला एवं बाल सुरक्षा संगठन द्वारा प्रदेश में महिलाओं एवं बच्चों से संबंधित अपराधों को नियंत्रित करने, उनको यथोचित सहायता प्रदान करने तथा महिला सशक्तीकरण हेतु निरंतर प्रभावी कार्यवाही की जा रही है।

अपर मुख्य सचिव, गृह अवनीश कुमार अवस्थी ने महिला एवं बाल सुरक्षा संगठन द्वारा विगत 1 जनवरी 2021 से 31 मई, 2021 तक की गई कार्यवाही का विवरण देते हुए बताया कि इस अवधि मे 1090 वीमेन पावर लाइन द्वारा कुल 1,27,888 शिकायते दर्ज की गयी। इनमे से 75,334 शिकायतें फोन बुलिंग एवं साइबर बुलिंग से संबंधित थी जिसमें से 68,434 शिकायतों का निस्तारण किया जा चुका है। शेष शिकायतें निस्तारण की प्रक्रिया में हैं। उन्होने बताया कि उपरोक्त मे से 1,377 शिकायतें स्टाकिंग व 51,177 शिकायतें अन्य प्रकरणों से संबंधित होने के कारण उन्हें जनपदीय पुलिस, जी0आर0पी0 एवं यू0पी0 112 को अन्तरित किया गया है।

महिला एवं बाल सुरक्षा संगठन से मिली जानकारी के अनुसार वीमेन पाॅवर लाइन-1090 में प्राप्त ऐसी शिकायतें जिसमें सामान्य काउन्सलिंग के उपरान्त भी आरोपी द्वारा पीड़िता को परेशान किया जाना पाया गया उन शिकायतों का निस्तारण 1090 की विशेष टीम द्वारा आरोपी के एफ0एफ0आर0 (फैमिली, फ्रेण्ड्स एवं रिलेटिव) काउन्सलिंग के माध्यम से किया गया। माह जुलाई, 2020 से अब तक इस प्रकार की प्राप्त कुल 5719 शिकायतों में एफ0एफ0आर0 काउन्सलिंग कर पीड़िताओं को राहत पहुंचायी गयी है। अपर पुलिस महानिदेशक महिला एवं बाल सुरक्षा संगठन ने बताया है कि लखनऊ में चिन्हित किये गये हाॅटस्पाॅटस पर वीडियों सर्विलांस के लिये सीसीटीवी, ड्रोन एवं मोबाइल सर्विलांस व्हीकल की व्यवस्था होगी जिसकी मानीटरिंग स्थापित किये जा रहे इन्टीग्रेटेड स्मार्ट कन्ट्रोल रूम द्वारा की जोयगी।

उन्होंने यह भी बताया कि महिलाओं की सुरक्षा के दृष्टिगत जनपद लखनऊ में 100 संवेदनशील स्थानों पर 100 पिंक बूथ/पिंक आउटपोस्ट की स्थापना की जा रही है, जिसका संचालन महिला पुलिस कर्मियों द्वारा किया जायेगा। इसका उद्देश्य है कि महिलाये सहज तरीके से अपनी बात महिला पुलिस से कह सके। लखनऊ पुलिस की महिला पुलिस कर्मियों द्वारा संवेदनशील स्थानों पर पैट्रोलिंग/गश्त किये जाने हेतु खरीदे गये 100 दो पहिया पिंक पैट्रोल एवं 10 चार पहिया पिंक पेट्रोल वाहन संचालित किये गये है। ये वाहन अपने पैट्रोलिंग क्षेत्र के निकटवर्ती थानों एवं पिंक बूथों के रेडियों संचार के माध्यम से तथा लखनऊ सेफ सिटी के कन्ट्रोल रूम तथा यू0पी0 112 से डेटा-संचार के माध्यम से जुडे़गे। इसके साथ ही लखनऊ शहर के 74 स्थानों पर महिलाओं की सुविधा हेतु पिंक टाॅयलेट्स निर्मित किये जा रहे है तथा शहर के अन्तर्गत संचालित सिटी बसों में महिलाओं की सुरक्षा हेतु जीपीएस, सीसीटीवी एवं पैनिक बटन अधिष्ठापित कराया जाना प्रक्रियाधीन है।

Popular posts from this blog

अनेक बातें जो हम समझ नहीं पाते

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

यूपी में पंचायत चुनाव को लेकर राज्य निर्वाचन आयोग ने शुरू की तैयारियां