गरीबों के लिए मसीहा बना एमएसजी फाउंडेशन, बच्चों के लिए शानदार पहल शुरू

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में विभिन्न जगहों पर मलिन बस्ती में लोग रह रहे हैं। जिनकी तरफ न ही सरकार की नजर पड़ रही है और न ही जिला प्रशासन कोई ध्यान दे रहा है। गरीबी के हालातों में जी रही एक बस्ती लखनऊ के कुकरैलपुल नाले के किनारे स्थित है। जिसमें सैकड़ों गरीब परिवार अपने बच्चों के साथ झोपड़पट्टी डालकर रह रहे हैं।

इस बस्ती के बच्चों की खुशियों के लिए विगत दो वर्षों से एमएसजी फाउंडेशन प्रत्येक रविवार को बस्ती में जाकर उनकी जरूरतों को पूरा करने का काम कर रही हैं। इसी क्रम में रविवार को एमएसजी फाउंडेशन के द्वारा बच्चों को पढ़ने लिखने के लिए कॉपी किताबों के साथ ही खाने की सामग्री दी गई। इस मौके पर पूर्व मंत्री गीता सिंह भी मौजूद रहीं। उन्होंने कहा कि इतने कम समय में जिस तरह से यह फाउंडेशन मलिन बस्ती में जाकर बच्चों की मदद कर रही है उसकी सराहना करती हूं आशा है कि इसी तरह से भविष्य में भी इनके द्वारा काम किया जाएगा। 

समाजसेवी फरहाना आब्दी कोरोना काल में अपने पति को खो चुकी हैं पति की मौत के बाद उन्होंने कोरोना महामारी में सैकड़ो लोगों की मदद की है ऑक्सीजन सिलेंडर के साथ-साथ उन्होंने तमाम संक्रमित मरीजों को अस्पतालों में भर्ती कराया था फरहाना बताती है कि वह बिना किसी लोभ के सामाजिक कार्य कर रही है उनका कहना है कि वह गरीब व असहाय बच्चों की मुस्कान बनने के लिए लगातार इस तरह के कार्य करती आ रही है।

Popular posts from this blog

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

स्वस्थ जीवन मंत्र : चैते गुड़ बैसाखे तेल, जेठ में पंथ आषाढ़ में बेल

एकेटीयू में ऑफलाइन परीक्षा को ऑनलाइन कराए जाने के संबंध में कुलपति को सौंपा गया ज्ञापन