निःशुल्क आॅक्सिजन कंसेन्ट्रेटर बैंक का किया गया शुभारम्भ

लखनऊ। उत्तर प्रदेश राज्य आपदा प्रबन्ध प्राधिकरण तथा लखनऊ विश्व विद्यालय के मार्गदर्शन मे पूर्वांचल ग्रामीण विकास संस्थान (च्ळटै) लखनऊ तथा ह्यूमैनेटेरियन एड् इन्टरनेशनल द्वारा आॅक्सीजन की सुविधा कोविड जैसी महामारी के दौरान भी उसके बाद भी दी जायेगी।
 
पूर्वांचल ग्रामीण विकास संस्थान तथा ह्यूमैनेटेरियन एड् इन्टरनेशनल द्वारा आक्सीजन बैंक के पहल का उददेश्य है कि अस्पतालो मे प्रवेश पाने मे असमर्थ मरीजों के घरेलु देखभाल तथा छोटे अस्पतालों/प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों मे भर्ती कोरोना मरीजो के लिए आॅक्सिजन कंसेन्ट्रेटर के माध्यम से जीवन रक्षक सहायता प्रदान करना। उक्त बाते पीजीवीएस के सचिव डाक्टर भानु ने बैठक के दौरान अपने सम्बोधन मे कहा कि अभी 15 आॅक्सिजन कंसेन्ट्रेटर आ चुके है और 20 जल्द ही आ जायेगें, साथ ही उन्होन आॅक्सिजन सिलेन्डर और आक्सिजन कंसेन्ट्रेटर मे अन्तर को स्पष्ट करते हुए कहा कि दोनो चीजें मरीज को आवश्यकतानुसार आॅक्सिजन देने के लिए की जाती है, दोनो मे अॅाक्सिजन मास्क/कैनुला लगाकर दिया जाता है।
 
सिलेन्डर मे एक सिमित मात्रा मे आक्सिजन भरा जाता है और समाप्त होने पर दुबारा भरने की आवश्यकता होती है लेकिन आॅक्सिजन कंसेन्ट्रेटर मे आस पास के हवा से आॅक्सिजन खीच लेता है इसलिए इसमे बार बार भरने की आवश्यकता नही होती है। पल्स आक्सिमिटर से नापने के बाद जिसके खून मे आॅक्सिजन का स्तर 94 प्रतिशत से कम हो जाता है वह डाक्टर के सलाह पर इसका उपयोग कर सकता है, इसमे एक फिल्टर होता है जो स्वच्छ आक्सिजन रोगी तक पहॅुचाता है, इसका उपयोग किसी भी सांस के रोगी के लिए किया जा सकता है, यह मशीन घंटो आॅक्सिजन उपलब्ध करा सकती है और इसको कभी भी दुबारा भरने की जरूरत नही है। मशीन वातावरण से आॅक्सिजन फिल्टर करके एक केनुला के माध्यम से रोगी तक पहूंचाती है, वातावरण मे 21 प्रतिशत आॅक्सिजन 78 प्रतिशत नाइट्रोजन तथा अन्य गैस होते है, यह वातावरण के 78 प्रतिशत नाइट्रोजन तथा अन्य गैसो को छांटकर अलग कर देती है तथा शुद्ध आॅक्सिजन एक सिलेन्डर मे स्टोर करती है जिसका उपयोग मरीज द्वारा किया जाता है।
 
बैठक के दौरान डा0 भानु ने कहा कि आॅक्सिजन कंसेन्ट्रेटर प्राप्त करने हेतु कुछ नियम एवं शर्ते बनायी गयी है। आॅक्सिजन कंसेन्ट्रेटर हेतु आवेदन आनलाइन गुगल फार्म हिन्दी अथवा अंग्रेजी मे करना होगा। मरीज का चिकित्सीय परिक्षण/परामर्श किसी प्रशिक्षित डाक्टर के माध्यम से किया गया हो। बंधक धनराशी के रूप मे 50,000 या किसी पहचान वाले गारन्टर का होना आवश्यक है। कंसेन्ट्रेटर उपयोग के बाद मशीन का सेनिटाइजेशन और मुंह मे लगाने वाला कैनुला सेट नया खरीद कर वापस करना होगा। कंसेन्ट्रेटर का आवंटन 1 सप्ताह के लिए किया जायेगा तथा डाक्टर के सलाह पर समय बढ़ाया जा सकता है। कंसेन्ट्रेटर के किसी प्रकार के नुकसान होने की स्थिति मे भरपाई आवेदनकर्ता या गारन्टर द्वारा करना होगा।
 
उत्तर प्रदेश राज्य आपदा प्रबन्ध प्राधिकरण के उपाध्यक्ष माननीय ले0जनरल रविन्द्र प्रताप साही ने कहा कि प्रदेश मे माननीय मुख्यमंत्री के कुशल नेतृत्व में त्वरित गति से निर्देश जारी किये गये। जिससे की इस महामारी पर समय रहते नियंत्रण पा लिया गया। मा0 मुख्यमंत्री ने यह भी निर्देशित किया कि जिले के सभी 159 जिला अस्पताल तथा सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र/प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र मे आवश्यकतानुसार अक्सीजन की व्यवस्था किया जाय तथा किसी प्रकार के दवा की कमी न होने दिया जाय। टेस्ट, ट्रेस और ट्रीट की जो रणनिति सरकार ने अपनायी उसके माध्यम से ही हम इस महामारी पर काबू पाने मे सफल हुए उन्होने कहा कि अफवाह को हमे कडायी से रोकने की आवश्यकता है और जो लोग इसमे दोषी पाये जाते है उनके खिलाफ कार्यवाही हो, टीकाकरण को लेकर जो भ्रान्तियां है उसे दुर करना होगा और यही एक मात्र उपाय है जिससे की हम इस महामारी पर विजय पा सकते है।
 
उन्होन एच.ए.आई से बेहतर एवं लम्बी पार्टनरशिप की सफल कामना व्यक्त किया।डा0 कासीफ इमदाद सहायक प्रोफेसर पीपीएन कालेज कानपुर ने बताया कि कोविड के दूसरे लहर के कारण बडे पैमाने पर व्यक्तिगत क्षति के साथ साथ राष्ट्रीय क्षति हुई जिसका अनुमान किसी को नहीं था, तैयारी जितनी बडी हो आपदा के दौरान कम पड़ जाती है, जो संसाधन मौजूद है उसकी जानकारी सभी स्तर पर होना उतना ही आवश्यक है जीतना संसाधनो का होना। प्राफेसर शीला मिश्रा सांख्यिकी विभाग लखनऊ विश्वविद्यालय ने बताया कि आॅक्सिजन के अभाव मे कोविड मे बहुत लोगों ने अपनो को खो दिया इसको ध्यान मे रखकर आगे से आॅक्सिजन की पूर्ती के लिए उत्तर प्रदेश मे जो निःशुल्क आॅक्सिजन कंसेन्ट्रेटर बैंक की स्थापना किया जा रहा है उससे गरीब से गरीब व्यक्तिओं का सहयोग हो सकेगा।
 
आॅक्सिजन कंसेन्ट्रेटर प्राप्त करने के लिए उत्तर प्रदेश राज्य आपदा प्रबन्ध प्राधिकरण के मार्गदर्शन मे कार्यरत विभिन्न स्थानीय संस्थाओं के प्रतिनिधियों को नामित किया गया है जिनसे सम्पर्क कर प्राप्त किया जा सकता है। आॅक्सिजन कंसेन्ट्रेटर प्राप्त करने हेतु आप राघवेन्द्र सिंह 9792533601, सी0 एल0 बाजपेई 8429771162, देवेन्द्रनाथ पाण्डेय 8840596580, मिस अदिति कुमारी 7668404854 एवं डा0 भानु प्रताप मल्ल 9936033344 से संपर्क कर सकते है।

Popular posts from this blog

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

अनेक बातें जो हम समझ नहीं पाते

एकेटीयू में ऑफलाइन परीक्षा को ऑनलाइन कराए जाने के संबंध में कुलपति को सौंपा गया ज्ञापन