मोदी कैबिनेट विस्तार से पहले पीएम आवास पर जुड़ा नेताओं का तांता

नरेंद्र मोदी कैबिनेट में बदलाव का खाका लगभग तैयार हो चुका है। बुधवार की शाम 6 बजे तक नए कैबिनेट का विस्तार हो जायेगा। इससे पहले भाजपा नेताओं को पीएम आवास पर पहुंचना शुरू हो गया है। उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) से कई नए चेहरों को मंत्रिमंडल में जगह दी जाएगी। दूसरी ओर एनडीए के घटक दलों अपना दल (Apna Dal), लोक जनशक्ति पार्टी (Lok Janshakti Party) और जनता दल यूनाइटेड (Janta Dal United) भी मंत्रिमंडल में शामिल होंगे।
 
कैबिनेट विस्तार से पहले कई नेताओं का प्रधानमंत्री आवास पर पहुंचना हो रहा है। बीजेपी नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया, सर्वानंद सोनोवाल, अजय भट्ट, कपिल पाटिल, शांतनु ठाकुर, पशुपति पारस, नारायण राणे, मीनाक्षी लेखी, शोभा करांडलजे, अनुप्रिया पटेल, हिना गावित, अजय मिश्रा पीएम आवास पर पहुंचे हैं। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा, बीजेपी नेता बीएल संतोष भी पीएम आवास पर मौजूद हैं। माना जा रहा है कि इस बार कई युवा चेहरों को मोदी कैबिनेट में जगह मिल सकती है। बीते दिन ही बीजेपी सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया, असम के पूर्व मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल, महाराष्ट्र के दिग्गज नेता नारायण राणे नई दिल्ली पहुंच गए हैं, ऐसे में इनके कैबिनेट में शामिल होने की अटकलें तेज़ हैं। 

अभी उत्तर प्रदेश से केंद्र सरकार में प्रधानमंत्री को छोड़कर 9 मंत्री हैं। यूपी में अगले साल की शुरुआत में विधानसभा चुनाव होना है। लिहाजा, राज्य को केंद्र में और ज्यादा प्रतिनिधित्व देकर भारतीय जनता पार्टी मतदाताओं में पकड़ मजबूत करना चाहेगी। चर्चा है कि उत्तर प्रदेश से प्रयागराज की सांसद रीता बहुगुणा जोशी, मिर्जापुर की सांसद अनुप्रिया पटेल, पीलीभीत के सांसद वरुण गांधी, आगरा के सांसद रामशंकर कठेरिया और बागपत के सांसद सत्यपाल सिंह केंद्र में मंत्री बनाए जा सकते हैं। बीजेपी इस विस्तार में उत्तर प्रदेश के जातीय और क्षेत्रीय समीकरण साधने की कोशिश करेगी। पहले भी इसी समीकरण के आधार पर मंत्री बनाए गए हैं। बागपत के सांसद सत्यपाल सिंह को मंत्री बनाकर पश्चिम उत्तर प्रदेश में जाट बिरादरी को साधने की कोशिश की जाएगी। दरअसल, लगातार ऐसी बातें सामने आ रही हैं कि जाट समुदाय भाजपा से कुपित है। दूसरी ओर पश्चिम उत्तर प्रदेश के किसान पिछले 8 महीनों से केंद्र सरकार के खिलाफ आंदोलन कर रहे हैं।
 
मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर रह चुके सत्यपाल सिंह पिछली मोदी सरकार में मानव संसाधन मंत्रालय के राज्य मंत्री थे। इस बार उन्हें मंत्रिमंडल में जगह नहीं दी गई थी। अभी प्रधानमंत्री को छोड़कर कैबिनेट और राज्य मंत्री के रूप में 9 मंत्री मौजूद हैं। दरअसल, लखनऊ के सांसद और पूर्व मुख्यमंत्री राजनाथ सिंह रक्षा मंत्री हैं। राजनाथ सिंह 2014 में मोदी सरकार में गृह मंत्री रह चुके हैं। वह लखनऊ से लगातार दूसरी बार सांसद चुने गए हैं। इससे पहले वह गाजियाबाद से सांसद रह चुके हैं। राजनाथ सिंह अटल सरकार में भी मंत्री रह चुके हैं। बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी रहे हैं। इस वक्त केंद्र सरकार में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बराबर अनुभव रखने वाले कोई एकमात्र नेता राजनाथ सिंह ही हैं। डॉ.महेंद्र नाथ पांडेय चंदौली से सांसद हैं। उन्हें केंद्र में कौशल विकास और उद्यमिता मंत्रालय का जिम्मा सौंपा गया है। 2014 में मोदी सरकार में राज्यमंत्री थे। वह यूपी सरकार में भी मंत्री रह चुके हैं। चंदौली से दूसरी बार सांसद हैं। यूपी बीजेपी के अध्यक्ष भी रहे हैं। रामपुर को कर्म भूमि बनाने वाले राज्यसभा सदस्य मुख्तार अब्बास नकवी को मंत्री बनाया गया है।
 
इस बार उनका पद बढ़ाकर राज्यमंत्री से कैबिनेट मंत्री किया गया। अमेठी से राहुल गांधी को हराने वाली स्मृति ईरानी महिला एवं बाल कल्याण मंत्री हैं। स्मृति इरानी 2014 में भी मोदी कैबिनेट में मंत्री थीं। वह 2014 में अमेठी से चुनाव तो नहीं जीत पाईं थी पर भाजपा ने गुजरात से राज्यसभा भेजकर उन्हें पहले मानव संसाधन मंत्री और फिर कपड़ा मंत्री बनाया था। मुजफ्फरनगर के सांसद संजीव बालियान को पशुपालन, डेयरी और मत्स्य पालन मंत्रालय में राज्य मंत्री बनाया गया है। संजीव बालियान ने पिछले लोकसभा चुनाव में मुजफ्फरनगर में चौधरी अजित सिंह को हराया था। संजीव बालियान 2014 में मोदी सरकार में राज्यमंत्री थे। हालांकि, उन्हें पिछली सरकार के अंतिम बदलाव में मंत्री पद से हटा दिया गया था। पश्चिमी यूपी के जाट चेहरे के रूप में चर्चित संजीव बालियान को दूसरी नरेंद्र मोदी सरकार में फिर मौका दिया गया। वहीं, फतेहपुर से सांसद साध्वी निरंजन ज्योति ग्रामीण विकास मंत्रालय में राज्यमंत्री हैं। यूपी में निषाद समुदाय का प्रतिनिधित्व करने वाली साध्वी निरंजन को भाजपा ने निषाद और पिछड़ा समुदाय को ध्यान में रखकर मंत्रिमंडल में जगह दी है।

Popular posts from this blog

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

स्वस्थ जीवन मंत्र : चैते गुड़ बैसाखे तेल, जेठ में पंथ आषाढ़ में बेल

एकेटीयू में ऑफलाइन परीक्षा को ऑनलाइन कराए जाने के संबंध में कुलपति को सौंपा गया ज्ञापन