हमारा आचरण ही संसार में हमारी उपयोगिता का निर्धारण करता है

श्रेष्ठ आचरण उपयोगिता बढ़ा देती है। जीवन एक वृक्ष है, संस्कार इसमें दिया जाने वाला खाद पानी और आचरण ही इसका फल है। जीवन रुपी इस वृक्ष में संस्कार रुपी खाद पानी का जितना सुन्दरतम सिंचन किया जायेगा, आचरण रुपी फल भी उतना ही मधुरतम व श्रेष्ठतम होगा। हरियाली अवश्य किसी वृक्ष का सौंदर्य है, फल उसकी सार्थकता जिस प्रकार फल वृक्ष की उपयोगिता को बढ़ा देते हैं।

ऐसे ही हमारा आचरण संसार में हमारी उपयोगिता का भी निर्धारण करता है। फल जितना सुस्वादु व मधुर होगा, वृक्ष की उपयोगिता उतनी ही अधिक होगी। ठीक ऐसे ही हमारा आचरण भी जितना मधुर अथवा श्रेष्ठ होगा, समाज में हमारी उपयोगिता भी उतनी ही अधिक होगी।

Popular posts from this blog

अनेक बातें जो हम समझ नहीं पाते

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

यूपी में पंचायत चुनाव को लेकर राज्य निर्वाचन आयोग ने शुरू की तैयारियां