शिवजी की तरह ज्ञान की गंगा में नहाओ ताकि जीवन का आनन्द ले सको

 
 
शिव पूजन और शिव स्मरण करते हुए यह भी जाने कि शिवजी का श्रृंगार क्या सन्देश देता है शिवजी के सर पर गंगा का तात्पर्य क्या है, आपके पास उच्च विचारों की, आदर्श विचारों की पवित्र विचारों की, ज्ञान की गंगा होगी तो संसार की विषम परिस्थितियाँ आपको प्रभावित ना कर पाएंगी। इस दुनिया में आगे बढ़ने के लिए और शांति पाने के लिए आवश्यक है
 
अपने आप को सकारात्मक, ज्ञानमय, आदर्शमय विचारों से सम्पन्न कर लेना छोटी-छोटी बातों से खिन्न हो जाना, उदास हो जाना, निराश हो जाना, यह दुःख को आमंत्रण देने जैसा है। शिवजी की तरह ज्ञान की गंगा में, भगवद चिन्तन की गंगा में, भजन की गंगा में नहाओ ताकि जीवन का आनन्द ले सको।

Popular posts from this blog

त्वमेव माता च पिता त्वमेव,त्वमेव बन्धुश्च सखा त्वमेव!

स्वस्थ जीवन मंत्र : चैते गुड़ बैसाखे तेल, जेठ में पंथ आषाढ़ में बेल

या देवी सर्वभू‍तेषु माँ गौरी रूपेण संस्थिता।  नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।।