भाजपा राज में हर तरफ उत्पीड़न की बयार, जनता कर रही हाहाकार- प्रियंका गांधी

आजमगढ। अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की महासचिव व उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गांधी वाड्रा ने आजमगढ के बिलरियागंज ब्लॉक के रौनापार थाने के पलिया गांव में दलित परिवारों के घरों को बिना कारण पुलिस द्वारा उत्पीड़नात्मक कार्यवाही करते हुए तीन घरों को रात्रि 11 बजे जेसीबी मशीन से ध्वस्तीकरण को भाजपा सरकार की दलित विरोधी मानसिकता बताते हुए कहा कि यह कैसा राज है जिसमे पीढ़ियों से रह रहे दलित परिवारों के घरों को पुलिस ध्वस्त करा देती है और गांव के दलित प्रधान के साथ बेरहमी से मारपीट करती है व न्याय मांगने के लिये धरना दे रही दलित महिलाओं की बात कोई  कोई सुनना नही चाहता है।

प्रियंका गांधी वाड्रा ने आजमगढ की घटना की कड़े शब्दों में निंदा करते हुए कहा जिस तरह गांव के दलित ग्राम प्रधान मुन्ना पासवान, राजपति पासवान व अप्पू पासवान को दलित होने की सजा पुलिस द्वारा बर्बरतापूर्ण तरीके से देने के साथ उनके परिवारों को निशाना बनाकर घरों को जबरन गिरवाया गया क्या यह सभ्य समाज या सरकार इसको उचित ठहरा सकती है़? प्रियंका गांधी वाड्रा ने कहा कि उत्तर प्रदेश में भाजपा के कुशासन काल मे दलित बेटियों के बलात्कार, हत्या, दमन के लिये उत्पीड़नात्मक कृत्य अब निर्दयता पूर्ण तरीके से जबरन उनके घरों को गिराने तक पहुच गया है। यह घटना दिल को दहलाने वाली है कि पहले एक दलित बिरादरी के ग्राम प्रधान को भाजपा सरकार की पुलिस ने मार-पीटकर लहूलुहान किया, उससे भी दिल नही भरा तो जेसीबी मंगाकर सोते हुए बच्चों की चीखपुकार न सुनते हुए घरों को ढहा दिया और उत्तर प्रदेश सरकार घटना को छिपाने के लिये  मौन धारण किये हुए है।

उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार दलितों के घर गिराने वाले पर सख्त कार्यवाही करे, दलित परिवारों को आर्थिक मदद करे, दोषी पुलिसकर्मियों पर सख्त कार्यवाही हो। प्रियंका गांधी वाड्रा ने कहा कि भाजपा के राज में हर तरफ उत्पीड़न की बयार बह रही है जनता हर तरफ हाहाकर रही है, कांग्रेस दलितों या समाज के किसी अन्य वर्ग का उत्पीड़न किसी भी तरह से स्वीकार नही करेगी, उन्हें न्याय दिलाने के लिये हर स्तर से प्रयास करेगी उन्होंने आजमगढ घटना को भाजपा की दलित विरोधी मानसिकता का परिचायक करार देते हुए कहा कि न्याय के लिए कांग्रेस दलितों के साथ खड़ी है।

Popular posts from this blog

स्वस्थ जीवन मंत्र : चैते गुड़ बैसाखे तेल, जेठ में पंथ आषाढ़ में बेल

त्वमेव माता च पिता त्वमेव,त्वमेव बन्धुश्च सखा त्वमेव!

या देवी सर्वभू‍तेषु माँ गौरी रूपेण संस्थिता।  नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।।