क्रोध किया यह महत्वपूर्ण नहीं अपितु क्रोध क्यों किया यह महत्वपूर्ण है


शांत रहो मगर आपकी शांति अधर्म को प्रश्रय देती हो, तो वहां पर शांति से ज्यादा महत्वपूर्ण क्रोध हो जाता है। भगवान शिव के रूद्र रूप का यही तो रहस्य है। द्वेषवश किसी से किया गया क्रोध जहाँ अनिष्टकारी और अहितकारी होता है, वहीं किसी के हित में किया गया क्रोध स्वयं के लिए भी इष्टकारी और हितकारी ही होता है।

क्रोध किया यह महत्वपूर्ण नहीं अपितु क्रोध क्यों किया यह महत्वपूर्ण हैलोकहित, लोकमंगल और धर्म को ग्लानि से बचाने के लिए किया गया क्रोध भी कल्याणकारी होता है। यही भगवान शिव के रौद्र रूप का संदेश है। भगवान शिव तो कल्याण स्वरुप ही हैं, इसलिए उनका रूद्र रूप भी कल्याण कारण ही हैसामर्थ्यवान होकर अन्याय और अनीति को सहते रहना यह अन्याय को बढ़ावा देने जैसा ही हैलोकमंगल, लोकहित और धर्म रक्षार्थ किया गया क्रोध भी जीव के शिव बनने का एक मार्ग है।

Popular posts from this blog

स्वस्थ जीवन मंत्र : चैते गुड़ बैसाखे तेल, जेठ में पंथ आषाढ़ में बेल

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

एकेटीयू में ऑफलाइन परीक्षा को ऑनलाइन कराए जाने के संबंध में कुलपति को सौंपा गया ज्ञापन