जनेश्वर मिश्र की जयंती के अवसर पर सपा ने निकली साइकिल यात्रा

लखनऊ। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव के नेतृत्व में समाजवादी चिंतक जनेश्वर मिश्र की जयंती के अवसर पर भाजपा सरकार की जनविरोधी नीतियों के खिलाफ प्रदेश कार्यालय से साइकिल यात्रा निकली। अंतर्राष्ट्रीय साइकिलिस्ट अभिषेक शर्मा ओर चैम्पियन साइकिल क्लब लखनऊ के भी साइकिल यात्रा में भागीदारी की।
 
लखनऊ की सड़कों पर आज आम जनता ने भी अखिलेश यादव की साइकिल यात्रा का जगह-जगह फूल-मालाओं से स्वागत किया। लाखों लोगों के हुजूम से आज लखनऊ सहित पूरा प्रदेश सपामय हो गया। अखिलेश यादव जिन्दाबाद के गगनभेदी नारों से आकाश गूंजने लगा। पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के स्वागत के क्रम में जियामऊ चैराहे पर समाजवादी व्यापार सभा के प्रदेश उपाध्यक्ष पवन मनोचा एवं सोनू कन्नौजिया के नेतृत्व में साइकिल यात्रियों पर फूलों की वर्षा हुयी और लाल-हरे रंग के गुब्बारे हवा में छोड़े गए। 1090 चैराहे पर मुकेश शुक्ला के नेतृत्व में ढोल-नगाड़े के साथ स्वागत किया गया। महिला वूमेन हेल्प लाईन के पास अधिवक्ता जितेन्द्र यादव जीतू ने सैकड़ों अधिवक्ताओं के साथ अखिलेश यादव का स्वागत किया।
 
 
समाजवादी सरकार में निर्मित जेपी एनआईसी गेट के सामने नवीन धवन बंटी एवं देवेन्द्र सिंह जीतू ने मंत्रोच्चारण के बीच अखिलेश यादव का स्वागत किया और राधा कृष्ण की प्रतिमा भेंट किया। डाॅ0 आशुतोष वर्मा के साथ कई चिकित्सकों ने भी साइकिल यात्रियों का अभिनंदन किया। लोहिया पार्क गेट के सामने लखनऊ बार की अधिवक्ता ममता सिंह एवं समीर सिंह के नेतृत्व में साइकिल यात्रियों का स्वागत अभिनंदन किया गया। गोमती नगर में दयाल चौराहे पर मोहम्मद अरमान एवं राजन त्रिवेदी और लखनऊ महिला सभा की ओर से मीरा वर्धन एवं जरीना उस्मानी की अगुवाई में साइकिल यात्रियों का स्वागत हुआ। दयाल चैराहे से जनेश्वर मिश्र पार्क के बीच राम सागर यादव के नेतृत्व में सैकड़ों लोगों ने फूल-मालाओं से पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव का भव्य स्वागत किया। जनेश्वर मिश्र पार्क के सामने समाजवादी युवजन सभा के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष विकास यादव ने साइकिल यात्रियों के लिए समाजवादी रसोई के द्वारा भोजन का प्रबन्ध किया।

Popular posts from this blog

स्वस्थ जीवन मंत्र : चैते गुड़ बैसाखे तेल, जेठ में पंथ आषाढ़ में बेल

त्वमेव माता च पिता त्वमेव,त्वमेव बन्धुश्च सखा त्वमेव!

या देवी सर्वभू‍तेषु माँ गौरी रूपेण संस्थिता।  नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।।