आत्मा में परमात्मा की ओर कुदरती कशिश है



हमारी आत्मा उस परमात्मा की ही अंश है, इसलिए आत्मा में परमात्मा की ओर कुदरती कशिश है,लेकिन उस पर कमो॔ का भारी बोझ है। इसलिए वह इस प्रेम का अनुभव नही कर सकती परमात्मा की ओर नही जा सकती..

यदी जीव को प्रभु मिलन की सच्ची लगन पैदा हो तो, अंतर में विचार करना चाहिये कि हम कौन है और किस प्रकार दुखः सुख के जंजाल मे फंसे हुए है । कर्मो के वश, मजबूर हो कर, आवागमन की डोर से जुड़ कर काल के हाथो कठपुतली बन गये है |

और तभी सच्चाई से आत्मा को तन मन से अलग करने का जतन किया जा सकता है |

जब यह संयोग बनता है तभी सतगुरु शब्द धुन के साथ जोड़ कर, हमें भक्ती दान देकर, संसार चक्र से अलग कर, निजधाम से नाता कायम कर देते है । बीज खेत में उल्टा पड़े या सीधा अंत में अंकुरित हो ही जाता है । ठीक इसी प्रकार प्रभु को जैसे भी याद करोगे कल्याणकारी होगा।

Popular posts from this blog

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

स्वस्थ जीवन मंत्र : चैते गुड़ बैसाखे तेल, जेठ में पंथ आषाढ़ में बेल

एकेटीयू में ऑफलाइन परीक्षा को ऑनलाइन कराए जाने के संबंध में कुलपति को सौंपा गया ज्ञापन