समय सदा एक जैसा नहीं रहता, बदलता रहता है

 
भगवान् शिव के जीवन से एक बात सीखने जैसी है कि जब भी इन्हें, आभास होता है अब कार्य का परिणाम प्रतिकूल होने वाला है या परिस्थितियां प्रतिकूल होने वाली हैं तो भगवान् शिव उदासीन हो जाते हैं। अपने आप को वहाँ से हटाकर ध्यानस्थ हो जाते हैं। शिवजी की समाधि यही कहती है कि मनुष्य जीवन भर परिस्थितियों से जूझता रहता है मगर उनसे कभी भी अपने को अलग नहीं रख पाता।
 
जीवन में कई परिस्थितियां ऐसी भी होती हैं जब उनमें तटस्थ रहना अथवा उदासीन बने रहना ही एक मात्र समाधान होता है। जीवन में शांति को बरकरार रखने के लिए कभी-कभी मौन धारण कर लो अर्थात प्रतिकूलताओं को नजरंदाज कर दो। समय अपनी चाल से चलता रहता है लेकिन यह बात जरूर याद रखना समय सदा एक जैसा नहीं रहता, बदलता रहता है।

Popular posts from this blog

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

स्वस्थ जीवन मंत्र : चैते गुड़ बैसाखे तेल, जेठ में पंथ आषाढ़ में बेल

एकेटीयू में ऑफलाइन परीक्षा को ऑनलाइन कराए जाने के संबंध में कुलपति को सौंपा गया ज्ञापन